विशाखापत्तनम में दुव्वादा विशेष आर्थिक क्षेत्र में आग पर काबू नहीं

विशाखापत्तनम: दुव्वादा विशेष आर्थिक क्षेत्र की एक बायो डीजल फैक्ट्री में 12 घंटे से भी पहले लगी आग पर अब तक नहीं काबू पाया जा सका है। यह जानकारी पुलिस ने बुधवार को दी। बायोमैक्स फ्यूअल्स लिमिटेड में आग की ऊंची लपटें देखी जा रहीं थीं। अधिकारियों ने कहा कि मंगलवार को लगी आग पर बुधवार की शाम तक भी काबू नहीं पाया जा सकता है।

फै क्ट्री में लगी आग बुझाने के लिए 40 दमकल गाड़ियां मशक्कत कर रही हैं। स्थिति पर नजर रखने के लिए नौ सेना के एक हेलीकॉप्टर की भी मदद ली गई।

विशाखापत्तनम के जिला अधिकारी युवराज ने कहा कि मंगलवार की शाम 7.30 बजे फैक्ट्री में कच्चे तेल और बायो डीजल के 12 टैंको में आग लग गई जिनमें छह टैंक भारी विस्फोट के साथ उड़ गए। 

अधिकारियों ने कहा कि फैक्ट्री परिसर में स्थित ईंधन के अन्य छह टैंकों तक आग की लपटों को पहुंचने से राकने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

अधिकारियों ने कहा कि आग पर तभी काबू पाया जा सकेगा जब टैंकों के ईंधन पूरी तरह जल जाएंगे। प्रत्येक टैंक की क्षमता तीन हजार लीटर की है जो 30 से 70 प्रतिशत तक भरे हुए थे।

विशाखापत्तनम शिपयार्ड और विशाखापत्तनम इस्पात संयंत्र से मंगाई गईं अग्निशमन गाड़ियां गत मंगलवार से ही आग पर काबू पाने में जुटी हुई हैं। नौ सेना और विशाखापत्तनम बंदरगाह भी आग बुझाने में सहयोग कर रहे हैं।

राज्य के मंत्री जी. श्रीनिवास राव ने कहा कि इस घटना में कंपनी के दो कर्मचारी मामूली रूप से घायल हुए हैं और फैक्ट्री परिसर में मौजूद सभी कर्मचारी सुरक्षित बाहर निकल लिए गए।

फैक्ट्री में लगी भयानक आग से आसपास के रिहायशी इलाकों के लोग दहशत में हैं। अधिकारियों ने कुछ इलाकों को खाली करा लिया है।

आग लगने के कारण का अब तक पता नहीं चला है। इस घटना से 200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

  • Agency: IANS