जगन चाहते हैं सभी आरोपों पर एकसाथ सुनवाई

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी ने सोमवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की अदालत में एक याचिका दाखिल कर अनुरोध किया कि सीबीआई द्वारा अंतिम आरोपपत्र दाखिल करने के बाद ही सुनवाई शुरू की जाए। जगनमोहन इस समय भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में हैं। कडपा से सांसद जगनमोहन ने प्रत्येक आरोप पर अलग-अलग सुनवाई करने का विरोध किया और कहा कि इससे सर्वोच्च न्यायालय द्वारा विभिन्न मामलों में दिए गए फैसलों का उल्लंघन होगा।

जगनमोहन के वकील ने तर्क दिया कि जांच एजेंसी द्वारा आरोपपत्र दाखिल करने की प्रक्रिया पूरी कर लेने के बाद अदालत मामले की सुनवाई संयुक्त रूप से शुरू कर सकती है।

सीबीआई ने हालांकि अदालत को सूचित किया कि वह मामले के विभिन्न पहलुओं की जांच कर रही है और सीबीआई ने प्रत्येक आरोप पर अलग-अलग सुनवाई किए जाने का बचाव किया।

सीबीआई मामलों की सुनवाई करने वाली विशेष अदालत ने याचिका की सुनवाई 24 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी।

जगनमोहन ने सीबीआई द्वारा दो अप्रैल को दाखिल एक पूरक आरोपपत्र पर अदालत द्वारा संज्ञान लिए जाने के बाद यह याचिका दाखिल की है। सीबीआई ने अपना पूरक आरोपपत्र जगनमोहन की कम्पनी में निवेश करने वाली किसी दवा कम्पनी के खिलाफ दायर किया है।

सीबीआई अब तक इस मामले में पांच आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है। पिछले सप्ताह दाखिल अपने हालिया आरोपपत्र में सीबीआई ने गृहमंत्री सबिता इंद्रा रेड्डी को अभियुक्त बनाया है।

सबिता इस मामले से जुड़ने वाली किरण कुमार रेड्डी मंत्रिमंडल की तीसरी मंत्री हैं। अभियुक्त बनाए गए सभी मंत्रियों पर आरोप है कि उन्होंने कथित तौर पर जगनमोहन की कंपनी में निवेश करने वाली कंपनियों की तरफदारी की है।

जगनमोहन ने सर्वोच्च न्यायालय में जमानत याचिका भी दायर की है। सर्वोच्च न्यायालय में यह उनकी दूसरी जमानत याचिका है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN