माकपा पोलित ब्यूरो की बैठक में राज्यों के चुनाव पर बनेगी रणनीति

तिरुवनंतपुरम:  नोटबंदी सहित विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श के लिए गुरुवार को यहां मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के पोलित ब्यूरो की बैठक शुरू हुई। माकपा के शीर्ष पदाधिकारी इस बैठक में भाग ले रहे हैं जो चार फरवरी से आठ मार्च तक पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए अपनी रणनीति को भी अंतिम रूप देंगे।

यह पहला अवसर है जब केरल की राजधानी में माकपा पोलित ब्यूरो और केंद्रीय कमेटी की बैठक हो रही है। इससे पहले यह पार्टी कांग्रेस का हिस्सा होती थी।

बैठक के एजेंडे में पार्टी के बुजुर्ग नेता और पूर्व मुख्यमंत्री वी. एस. अच्युतानंदन की कथित अनुशासनहीनतासे जुड़ी एक रिपोर्ट भी है। यह मामला माकपा के वर्ष 2015 के सम्मेलन से जुड़ा है जिससे अच्युतानंदन गुस्से में बाहर आ गए थे। मौजूदा महासचिव सीताराम येचुरी एवं अन्य के बार-बार आग्रह करने के बाद भी वह अलप्पुझा की बैठक में शामिल होने नहीं लौटे थे।

जानकार सूत्रों ने कहा कि केरल में सत्तारूढ़ वाम लोकतांत्रिक मोर्चा की मुख्य पार्टी माकपा अब शांत पड़ गए अच्युतानंदन के पर कतरने के लिए और कोई कदम नहीं उठाएगी।

बैठक शुरू होने के पहले गुरुवार को अच्युतानंदन ने आठ नवंबर को हुई नोटबंदी के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन शुरू करने की मांग करते हुए पोलित ब्यूरो को एक पत्र सौंपा।

  • Agency: IANS