दिल का दौरा मापने के लिए बीएमआई अहम

 

नई दिल्ली:  कुछ खास खतरे किसी इंसान में दिल के दौरे का कारण बनते हैं। इनमें से कुछ खतरे हमारे काबू से बाहर हैं और वे रोके नहीं जा सकते। लेकिन कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें रोका जा सकता है। इनमें से एक है बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) जो भविष्य में दिल का दौरा पड़ने में अहम भूमिका निभाता है। बीएमआई मोटापे के स्तर की जांच के लिए सबसे व्यावहारिक तरीका है। इसे कद और वजन से इस प्रकार मापा जाता है।

आईएमए के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद्मश्री डॉ के.के. अग्रवाल कहते हैं कि दिल के रोग पैदा होने के पीछे खानपान अहम भूमिका निभाता है। वजन ज्यादा होने पर हाईपरटेंशन, डायबिटीज और एथेरोसिलेरोसिस होने की संभावना रहती है। इससे दिल के दौरे सहित अनेक दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है। दिल के दौरे के खतरे को समझने के लिए अपने बीएमआई के बारे में जागरूक रहना चाहिए।

उन्होंने बताया कि दिल के रोगों का पता लगाने के लिए आपके बीएमआई और कमर के घेरे को लिया जाता है। दोनों मिलकर दिल के दौरे के खतरे के स्तर को मापने में मदद कर सकते हैं। इससे आप बचाव के कदम और जीवनशैली में बदलाव जितनी जल्दी हो सके कर पाएंगे।

डॉ. अग्रवाल के मुताबिक, अगर आपकी उम्र 40 साल से कम हैं तो पुरुष जिनके परिवार में पहले से डायबिटीज, ब्लड प्रेशर या दिल के रोग रहे हैं, जिनका बीएमआई के अनुसार वजन सामान्य है लेकिन पेट निकला हुआ है या 18 की उम्र के बाद वजन 10 किलो ज्यादा बढ़ा है तो उन्हें इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और दिल के दौरे के खतरे को कम करने के लिए तुरंत दिल के माहिर के पास जाना चाहिए।

कुछ अहम बातें :

* जिन लोगों का बीएमआई 23 से 30 के बीच है, उन्हें कम खतरा है लेकिन जिनका 30 से 35 के मध्य है उन्हें मध्यम खतरा होगा।

* जिनका बीएमआई 35 से 40 के मध्य है, उन्हें अधिक खतरा होगा और जिनका 40 से भी ऊपर है उन्हें अपने मोटापे से अत्यधिक खतरा है।

* बीएमआई के किसी भी स्तर पर पेट का मोटापा बढ़ने से हाईपरलिपिडेमिया, हाइपरटेंशन, 40 साल से कम उम्र, पुरुष और परिवार में पहले से डायबिटीज, हाइपरटेंशन या दिल के रोग होने से सेहत को खतरे बढ़ जाते हैं।

  • Agency: IANS