कांग्रेस जल्‍दी राहुल गांधी को अध्‍यक्ष की कुर्सी पर बिठाए, बीजेपी को आसानी होगी: योगी आदित्‍यनाथ

Tuesday, 21 November 2017 17:10

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस के वंशवाद की परम्परा को ही आगे बढ़ाने का काम करेंगे। उनके अध्यक्ष बनने से भाजपा की राह और आसान हो जाएगी। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान सौंपने की खबरों के बीच मंगलवार को गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बातें कहीं। वह अभी गोरखपुर के चार दिवसीय दौरे पर हैं।उन्होंने कहा, “अच्छा ही है कि कांग्रेस राहुल गांधी को जल्दी से पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठा दे। उनके पार्टी अध्यक्ष बनने से भारतीय जनता पार्टी को कांग्रेस मुक्त भारत अभियान में सफलता हासिल करने में आसानी होगी।”

गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस वंशवादी पार्टी है और इसी को आगे बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की। फिल्म को लेकर हो रहे विरोध पर योगी ने कहा कि निर्देशक संजय लीला भंसाली को लोगों की भावनाओं से खेलने का कोई अधिकार नहीं है। अगर लोग विरोध कर रहे हैं तो उन्हें दर्शकों की भावनाओं को समझना ही होगा। योगी ने कहा कि नगर निकायों को अधिक समर्थवान और जवाबदेह बनाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि नगर निकायों को आर्थिक रूप से इतना मजबूत किया जाएगा कि वह बड़ी से बड़ी परियोजना पर स्वयं निर्णय ले सकें। उन्होंने कहा कि बसपा और सपा सरकार ने नगर निकाय को कमजोर करने के लिए अध्यादेश लाने की कोशिश की थी लेकिन राज्यपाल राम नाईक की सहमति न मिलने की वजह से वे अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके थे। हमारी पूरी कोशिश है कि नगर निकायों को इतना मजबूत कर दिया जाए कि उन्हें किसी कार्य के लिए ऊपर ना देखना पड़े।

 

दुनिया के सबसे ताकतवर राष्ट्रपति को इस पोर्न स्टार ने दी चुनौती, कहा ऐसा कि मच गया हंगामा

Tuesday, 21 November 2017 17:05

अगले साल रूस में प्रेसिडेंट इलेक्शन हैं. जिसकी तैयारियां जोरों पर चल रही है. प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ विरोधी पार्टियां ऐसे चेहरे को ढूंढ रही हैं जो उन्हें पूरी टक्कर दे सके. पुतिन ने रूस में ही नहीं दुनिया में अपनी छाप छोड़ी है. ऐसे में उनको हराने के लिए विरोधी पार्टियां भी हर मुमकिन कोशिश करने में लगी हैं. लेकिन इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो गया. जिसे देखकर हर कोई हैरान रह गया. पूरे रूस में चर्चा का विषय बन गया. बता दें, इंस्टाग्राम पर एक वीडियो पोस्ट कर एक पूर्व पोर्न स्टार ऐलेना बर्कोवा ने उनके खिलाफ राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की घोषणा की है.


वीडियो में किए एलीना ने ये वादे
 खबर के मुताबिक, सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म इस्टाग्राम पर एलीना ने प्रेसिडेंट इलेक्शन में खड़े होने का एलान करते हुए कुछ वादे भी किए हैं. उन्होंने कहा है कि उनकी सरकार आते ही वो स्कूलों में सेक्स एजुकेशन कम्पलसरी करेंगी. क्योंकि वहां अभी भी बच्चों को प्रोपर सेक्स एजुकेशन नहीं दी जाती है. यही नहीं उन्होंने कहा- '40 सेंटीमीटर से लंबी स्कर्ट पहनना अपराध माना जाएगा. मर्दों को तलाक देने का अधिकार भी खत्म किया जाएगा और इस सभी के लिए कानून बनाया जाएगा.' एलीना ने महिलाओं के लिए ही ये वादे इसलिए किए क्योंकि वो महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकना चाहती हैं. 

elena berkova


सोशल मीडिया पर रहती हैं काफी एक्टिव
एलीना रूस के मुर्मान्स्क शहर में रहती हैं. उनके इंस्टाग्राम पर 6 लाख से ज्यादा फोलॉअर्स हैं. बता दें, एलीना सोची से मेयर का चुनाव भी लड़ चुका हैं. लेकिन उस वक्त उनकी बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था. एक समय था जब एलीना बर्कोवा जानी मानी पोर्न स्टार थीं. लेकिन अब वो सोशल मीडिया पर हॉट वीडियो डालती हैं. वो दो बच्चों की मां भी हैं. 

vladimir putin afp


दुनिया के सबसे ताकतवर प्रेसिडेंट को दी चुनौती
पूर्व पोर्न स्टार ने जिस प्रेसिडेंट को चुनौती दी है. उसका नाम दुनिया का सबसे ताकतवर लोगों की नामों के साथ लिया जाता है. यही नहीं, इन्वेस्टमेंट कंपनी हर्मिटेज कैपिटल मैनेजमेंट के मुताबिक, व्लादिमीर पुतिन दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं. पुतिन दुनिया में इसलिए भी इतने फेमस हैं क्योंकि उनकी कई ऐसी फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं जो उनको और शानदार बनाती हैं. घुड़सवारी करते हुए, जूडो खेलते हुए, मोटरसाइकल चलाते हुए, जंगल में शिकार करते हुए और भी कई ऐसी फोटोज वायरल हुई हैं जिसके लिए लोग उन्हें काफी सपोर्ट करते हैं.

'नोटबंदी के बाद अब 'चेकबंदी' भी कर सकती है नरेंद्र मोदी सरकार'

Tuesday, 21 November 2017 17:02

पिछले साल की गई नोटबंदी के बाद   से ही सरकार की लगातार कोशिश है कि देशभर में कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा दिया जाए, ताकि भ्रष्टाचार और काले धन पर लगाम लगाई जा सके, और इसी उद्देश्य से अब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार बैंकों में मिलने वाली चेक की सुविधा को भी खत्म कर सकती है.
 
फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) का कहना है कि नरेंद्र मोदी सरकार जल्द ही चेक की व्यवस्था को खत्म करने का आदेश जारी कर सकती है. संगठन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि सरकार क्रेडिट और डेबिट कार्डों के इस्तेमाल को लगातार बढ़ावा दे रही है, और इसे अधिक सुचारु और लोकप्रिय बनाने के लिए वह चेकबुक की सुविधा को भी खत्म कर सकती है.
 
CAIT महासचिव के मुताबिक नोटबंदी से पहले तक केंद्र सरकार को नए करेंसी नोटों की छपाई पर लगभग 25,000 करोड़ रुपये खर्च किया करती थी, और उनकी सुरक्षा पर 6,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त रकम खर्च करनी पड़ती थी.चेक की सुविधा को खत्म करने से कैशलेस अर्थव्यवस्था की दिशा में कितना लाभ होगा, इस सवाल के जवाब में प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि अधिकतर व्यापारिक लेनदेन चेक के ज़रिये ही होते है.

उनका कहना था कि फिलहाल देश में 95 फीसदी लेनदेन नकदी या चेक के ज़रिये ही होते हैं. नोटबंदी के बाद नकदी के लेनदेन में कमी आई, सो, चेकों का इस्तेमाल निश्चित रूप से बढ़ा है.

शीतकालीन सत्र: तीन तलाक खत्म करने के लिए बिल ला सकती है सरकार

Tuesday, 21 November 2017 14:34

केन्‍द्र सरकार शीतकालीन सत्र में तीन   तलाक खत्म करने के लिए विधेयक ला सकती है और इसके लिए सरकार ने एक मंत्री समूह भी बनाया है. आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक बताया है और कोर्ट के फैसले के बाद भी तीन तलाक के मामले सामने आए हैं.
वहीं कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा के पूरे साल में बजट, मनसून और शीतकालीन सत्र के दौरान सिर्फ 38 दिन ही संसद चली है. उन्‍होंने कहा कि 70 साल का रिकार्ड तोड़ा इन्होंने सदन की सीढ़ी चूम कर आए पर सदन में लोगों के हितों पर चर्चा से भाग रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे के सवाल भी सदन में पूछे जाते लेकिन सरकार सब सवालों से बच रही है. 

गुलाम नबी ने कहा कि पीएमओ ही सारे फैसले लेता है. सदन में रक्षा डील पर सवाल पूछा जाता है लेकिन ये सरकार बस चुनाव करने कराने की मशीन बन गई है. उन्‍होंने कहा कि चुनाव आयोग ने पीएम मोदी के जहाज पर चढ़ने पर पैसा नहीं जोड़ा था ताकि वे किसी राज्य में एकाध बार जा सकें. पर ये पीएम तो जहाज से उतरते ही नहीं है.
कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि सरकार को डर है कि चर्चा चली तो गुजरात में हालत खराब हो जाए. उन्‍होंने कहा कि मोदी जी भूल गए हैं कि वो डेमोक्रेसी में काम नहीं कर रहे मनमानी कर रहे हैं.
 

उन अभिनेताओं को जानती हैं राधिका आप्टे जो फिल्म इंडस्ट्री में हुए Sexually Abused

Tuesday, 21 November 2017 14:27

मुंबई:फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच जैसे मामले पर सेलेब्स कुछ भी कहने से बचते हैं.  हालांकि, हॉलीवुड निर्माता हार्वे वेन्सटेन विवाद के बाद से फिल्म इंडस्ट्री में यौन शोषण के कई मामले रोशनी में आए. एक के बाद एक केविन स्पेसी, जेम्स टोबैक, ब्रेट रैटनर जैसे कई हॉलीवुड दिग्गजों पर यौन शोषण के आरोप लगे. हॉलीवुड के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री में भी यह मामला उठा. 'करीब करीब सिंगल' एक्टर इरफान खान पहले ऐसे अभिनेता थे जिन्होंने उनके संघर्षों के दिनों में खुद को मिले समझौतों के प्रस्ताव की बात खुलकर सबके सामने रखी थी.

अब एक्ट्रेस राधिका आप्टे का कहना है कि फिल्म जगत में यौन शौषण केवल महिलाओं तक सीमित नहीं है बल्कि वह कई ऐसे पुरुषों का जानती हैं जो इसका शिकार हुए हैं.  अभिनेत्री ने भाषा को दिए एक इंटरव्यू में कहा, "केवल महिलाएं नहीं, पुरुषों को भी यौन शोषण का सामना करना पड़ता है.

मैं विशेष तौर पर फिल्म जगत की बात कर रही हूं. मैं ऐसे कई पुरुषों को जानती हूं जो इसका शिकार हुए हैं. इस पर बात किए जाने का यह सबसे उचित समय है."  राधिका के मुताबिक 'अधिक से अधिक महिलाएं' कास्टिंग काउच से जुड़े अपने अनुभवों को साझा कर रही हैं. एक ऐसे मंच की आवश्यकता है जहां इनकी सुनवाई हो पाए. उन्होंने कहा कि फिल्म जगत अब बड़ा होता जा रहा है और विभिन्न जगहों से लोग इसका हिस्सा बन रहे हैं, इसलिए यह बहुत जरूरी है कि हमारे पास एक मंच हो. 

'फोबिया' की अदाकारा ने कहा कि यह 'संवेदनशील' एवं 'गंभीर' विषय है और यौन दुराचार रोकने के लिए अधिक पारदर्शिता की आवश्यकता है.

IND vs SL: भुवनेश्‍वर कुमार की जगह टीम में इस खिलाड़ी की एंट्री, माना जाता है पांड्या का बैकअप

Tuesday, 21 November 2017 14:24

तमिलनाडु के हरफनमौला विजय शंकर ने कहा कि वह लंबे समय से राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने का सपना देख रहे थे लेकिन भारतीय टेस्ट टीम में जगह पाना उनके लिए हैरानी भरा रहा। तेज गेंदबाज हरफनमौला हार्दिक पांड्या के बैकअप माने जाने वाले शंकर को श्रीलंका के खिलाफ मौजूदा टेस्ट श्रृंखला भुवनेश्वर कुमार के विकल्प के तौर पर टीम में जगह दी गई। शंकर ने इंदौर से फोन पर कहा, ‘‘मैं काफी उत्साहित हूं। भारतीय टीम का हिस्सा बनना मेरा पुराना सपना था जो सच हो गया। मेरी कड़ी मेहनत रंग लाई। मैं इसकी उम्मीद नहीं कर रहा था लेकिन बहुत अच्छा लग रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘पहली बार भारतीय ड्रेसिंग रूम का हिस्सा बनने का मैं बेताबी से इंतजार कर रहा हूं।’’ भारत ए के लिए खेल चुके 26 बरस के शंकर ने कहा कि बतौर हरफनमौला इससे उन्हें परिपक्व होने में मदद मिली। उन्होंने कहा, ‘‘भारत ए टीम के साथ खेलकर मुझे बतौर हरफनमौला निखरने में मदद मिली। मैं बतौर खिलाड़ी परिपक्व हुआ हूं और अलग-अलग हालात में खेलना सीख गया हूं।’’ शंकर ने रणजी ट्राफी में ओडिशा के खिलाफ शतक जमाया और लंबे स्पैल में गेंदबाजी भी की।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं बल्लेबाजी में अपने फार्म से खुश हूं। मैं उम्दा गेंदबाजी कर रहा हूं और मुंबई के खिलाफ चार विकेट लेकर मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा है।’’ उन्होंने कहा कि अपनी फिटनेस पर उसने काफी मेहनत की है। उन्होंने कहा,‘‘ मैने फिटनेस पर काफी मेहनत की है । मैने एनसीए में फिजियो और ट्रेनर के साथ रिहैबिलिटेशन में भाग लिया। इससे मैं मजबूत हुआ हूं।’’

 

'पद्मावती' विवाद पर बोले योगी आदित्यनाथ, धमकी देने वाले दोषी हैं तो भंसाली भी कम दोषी नहीं

Tuesday, 21 November 2017 14:01

लखनऊ: फिल्म 'पद्मावती' को लेकर विवाद जारी है. हाल ही में हरियाणा बीजेपी के चीफ मीडिया को-ऑर्डिनेटर कुंवर सूरजपाल अम्मू को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. अमु ने दीपिका पादुकोण और संजय लीला भंसाली का सिर काट कर लाने वाले को दस करोड़ का इनाम देने का ऐलान किया था. मगर, इस बीच यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि किसी को कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं है, चाहे वह संजय लीला भंसाली हों या फिर कोई और.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि मुझे लगता है अगर, फिल्म और उसके कलाकारों को धमकी देने वाले दोषी हैं तो यह भंसाली भी कम दोषी नहीं हैं. भंसाली जन भावनाओं से खेलने के आदी हो चुके हैं.

वहीं, फिल्म 'पद्मावती' पर चल रहे विवाद पर चुप्पी तोड़ते हुए कमल हासन ने लिखा, "मुझे चाहिए कि दीपिका का सिर..सुरक्षित रहे. उनके शरीर से अधिक इसका सम्मान किया जाए. इससे भी ज्यादा उनकी स्वतंत्रता का सम्मान किया जाए." वैसे बता दें कि संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' की रिलीज डेट भारी विवाद के बाद टल गई है.

द्वारका मोड़ मेट्रो स्‍टेशन के पास मुठभेड़, 30 राउंड फायरिंग के बाद पांच बदमाश गिरफ्तार

Tuesday, 21 November 2017 13:59

दिल्ली के द्वारका मोड़ मेट्रो स्टेशन के पास मंगलवार को हुई मुठभेड़ के बाद पांच बदमाशों को गिरफ्तार किया है. पंजाब और दिल्‍ली पुलिस ने मिलकर इस ऑपरेशन को अंजाम दिया. 

पंजाब पुलिस को बिंदापुर में पिलर नंबर 68 के सामने शांति पार्क के प्लाट नंबर 5 की एक इमारत में 5 बदमाशों के छुपे होने की खबर मिली थी. पंजाब पुलिस ने इसकी जानकारी दिल्ली की बिंदापुर पुलिस को दी. इसके बाद पंजाब पुलिस और दिल्ली पुलिस जब बदमाशों को गिरफ्तार करने के लिए गई तो उन्‍होंने पुलिस पार्टी पर फायरिंग शुरू कर दी.

इसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में कई राउंड फायरिंग की. करीब 25 से 30 राउंड फायरिंग के बाद पंजाब पुलिस ने 5 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया. जबकि एक बदमाश फरार होने में कामयाब रहा. गिरफ्तार बदमाश कार लुटेरे बताए जा रहे है और पंजाब के मोस्ट वांटेड अपराधी हैं. 

पुलिस ने गिरफ्तार बदमाशों के पास से 11 कट्टे, 1 पिस्टल और 100 कारतूस बरामद किए हैं.

‘अक्सर 2’ के मेकर्स ने जरीन खान को कहा ‘अनप्रोफेश्नल’, जानिए एक्ट्रेस ने क्या दिया जवाब

Tuesday, 21 November 2017 13:31

हाल ही में जरीन खान स्टारर फिल्म ‘अक्सर 2’ रिलीज हुई। जरीन अपनी फिल्म को लेकर प्रमोश्नल एक्टिविटीज भी करती नजर आईं। लेकिन अनंत महादेवन के निर्देशन में बनी फिल्म ‘अक्सर 2’ बॉक्स ऑफिस में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई। फिल्म के ऑपनिंग वीकेंड के बाद से ही खबरें आने लगी कि अक्सर 2 के प्रमोशन के दौरान एक्ट्रेस जरीन खान को काफी मोलेस्ट किया गया। वहीं फिल्म मेकर्स ने भी जरीन खान को लेकर कहा कि वह अनप्रोफेश्नल हैं और अपनी कमिटमेंट्स पूरी नहीं करतीं।

बॉलीवुड हंगामा की रिपोर्ट के अनुसार,  खुद पर लगे इन आरोपों को लेकर जरीन खान ने कहा, ‘मैं पब्लिक में तमाशा बनाने वालों में से नहीं हूं।’ जरीन आगे कहती हैं, ‘सबसे पहले तो मैं यह क्लियर करना चाहूंगी कि मैं उन लोगों में से नहीं हूं जो पब्लिक के आगे तमाशा बनाएं। मैं एक बहुत ही प्राइवेट किस्म की लड़की हूं। मैं अपनी जिंदगी में नॉन ड्रमैटिक रहना पसंद करती हूं। अक्सर 2 के मेकर्स के साथ काम करते वक्त मैं फिल्म की रिलीज की तारीख का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। मैं और कुछ नहीं कर सकती थी। इसके चलते मैं जो बेस्ट कर सकती थी मैंने किया।’

‘लेकिन यह बहुत मायूस करने वाली बात है। जब आप सब कुछ करो और बदले में कोई आपको अनप्रोफेश्नल कहे।’ आगे जरीन कहती हैं, ‘यह आरोप पहले क्यों नहीं लगे। जब दिल्ली में मैंने कहा कि मुझे मोलेस्ट किया गया। तब मुझ पर इस तरह के आरोप लगने शुरू हुए। ‘

 

गंदे कपड़े देख बाइक शोरूम से भगा रहे थे लोग, फिर हुआ ऐसा कि सब रह गए SHOCKED

Tuesday, 21 November 2017 13:13

अंग्रेजी की एक कहावत है- Never Judging A Book By Its Cover यानी किताब के कवर से अंदर का अंदाजा लगाना गलत है. कहा तो ये भी जाता है कि कपड़ों से लोगों की हैसियत का पता चलता है. लोग देखकर ही अनुमान लगा लेते हैं कि कौन कैसा व्यक्ति है. लेकिन थाईलैंड के एक व्यक्ति को देखकर तो हर किसी ने भिखारी समझ लिया. लेकिन उसके एक कदम ने सभी हैरान कर दिया. सोशल मीडिया पर ये खबर तेजी से वायरल हो रही है. आइए जानते हैं आखिर मामला क्या है....

जब पहुंचा बाइक शोरूम
मामला इसी साल के मई महीने का है. थाईलैंड की लोकल वेबसाइट sanook के मुताबिक,  थाईलैंड के एक बाइक शोरूम के बाहर गंदे कपड़े पहने एक व्यक्ति खड़ा था. जो बार-बार अंदर झांक रहा था. जिसके बाद वो अंदर दाखिल हुआ और वहीं बैठ गया. सभी उसे बाहर भगाने लगे. लेकिन वो बार-बार बाइक को छू-छूकर देख रहा था. कर्मचारी भी उसे बाहर धकेलने की कोशिश कर रहे थे. लेकिन जब उसने हार्ले डेविडसन का दाम पूछा तो सभी की हंसी छूट गई. लेकिन वो व्यक्ति काफी गंभीर अंदाज में सवाल पूछ रहा था. बार-बार लोगों की हंसी देखकर भिखारी गुस्से में आ गया और मैनेजर को बुला लिया.  

 

harley davidson


हुआ ऐसा कि हैरान हुए लोग
जिसके बाद मैनेजर ने उसे हार्ले डेविडसन का मॉडल दिखाया. जो उसे काफी पसंद आई. बता दें, बाइक की कीमत करीब 12 लाख थी. लेकिन जैसे ही गंदे कपड़े पहने व्यक्ति ने अपनी जेब से 12 लाख रुपये निकालर मैनेजर के हाथ में थमा दिए तो सभी कर्मचारी हैरान हो गए और भिखारी बाइक लेकर निकल गया. 

भिखारी का नाम है लंग डेचा
एशिया वन की  खबर के मुताबिक जब हर जगह ये खबर फैल गई तो पता चला कि इस आदमी का नाम लंग डेचा है. जो एक रिटायर्ड मैकेनिक हैं. जिसकी हार्ले डेविडसन ड्रीम बाइक थी, जो वो अपने महनत के पैसों से लेना चाहता था. बता दें, ये बाइक उन्होंने मई में खरीदी थी. लेकिन, ये खबर सोशल मीडिया पर अभी भी वायरल हो रही है. 

कांग्रेस 'अध्‍यक्ष' बनने पर राहुल गांधी के सामने होंगी ये पांच चुनौतियां

Tuesday, 21 November 2017 12:51

कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने पार्टी अध्यक्ष पद के लिए होने वाले चुनाव कार्यक्रम को मंजूरी दे दी है, जिसके बाद गुजरात विधानसभा चुनावों से पहले राहुल गांधी के  पार्टी अध्यक्ष बनने का रास्ता साफ हो गया है. नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख चार दिसंबर को दोपहर तीन बजे तक है. अगर राहुल गांधी के अलावा कोई नामांकन दाखिल नहीं करता है तो चार तारीख को कांग्रेस के नया अध्‍यक्ष मिल जाएगा. कांग्रेस पार्टी का अध्‍यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी के सामने होंगी ये पांच चुनौतियां...

 

गुजरात चुनाव: अध्‍यक्ष पद की जिम्‍मेदारी मिलने के बाद राहुल गांधी के सामने सबसे बड़ी चुनौती गुजरात चुनाव की होगी. क्‍योंकि यहां पर 1995 से बीजेपी की सरकार है. 

  1. पार्टी को नया रूप देना: राहुल गांधी पर दूसरी सबसे बड़ी चुनाती होगी देश के युवाओं को पार्टी से जोड़ना. इसके लिए पार्टी कई युवा चेहरों को पार्टी में बड़ी जगह देनी होगी या उन्‍हें आगे लाना होगा.
  2. राज्‍य स्‍तर पर बदलाव: पार्टी को मजबूत बनाने के लिए राहुल को राज्‍य स्‍तर पर भी बदलाव करने होंगे ताकि हर राज्‍य में पार्टी के पास एक चेहरा हो जिसके साथ पार्टी चुनावों में उतर सके.  
  3. वरिष्‍ठ नेताओं को साथ लेकर चलना जरूरी: युवाओं को साथ लेने के साथ राहुल को पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं को भी साथ लेकर चलना होगा क्‍योंकि उनको दरकिनार करने से पार्टी को कई जगह विरोध का सामना करना पड़ सकता है.  
  4. मुद्दों पर सरकार को घेरना: पिछले कुछ समय से राहुल ने जीएसटी समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरा है और सोशल मीडिया पर भी राहुल की मौजूदगी बड़ी है. इसे आगे भी जारी रखना होगा ताकि सरकार को उन्‍हीं के तरीके से घेरा जा सके. 

बिग बॉस 11: स्पेशल पावर का इस्तेमाल करके बंदगी ने पुनीश को बचाया

Tuesday, 21 November 2017 11:33

बिग बॉस सीजन 11 में  इस हफ्ते कंटेस्टेंट बेनाफ्शा घर से बेघर हुईं है। वहीं घर में उनके बेस्ट फ्रेंड प्रियांक शर्मा उन्हें बहुत याद करते हुए नजर आए। इतना ही नहीं बेनाफ्शा के लिए उनकी आंखों से आंसू भी छलके। इसके बाद बिग बॉस ने फीजी नॉमिनेशन वीक के तहत घरवालों को एक टास्क दिया। टास्क का नाम था- ‘सेफ जोन’ टास्क। इस सेफ जोन के अंदर एक ऐसा एरिया बनाया जाता है, जहां लक्जरी चीजें प्रोवाइड की जा रही हैं।

इस दौरान हिना खान, विकास गुप्ता, हितेन तेजवानी और   अर्शी खान को सेफ जोन की मेंबरशिप मिलती है। वहीं बाकी घर वाले नॉमिनेशन की प्रक्रिया में ही हैं। इसके चलते अर्शी खान अपनी से फ जोन की जगह शिल्पा शिंदे को देती हैं। लेकिन हिना इसके लिए उन्हें सेफ जोन से बाहर आने के लिए मना कर देती हैं। हिना फिर डिसाइड करती हैं कि वह अपनी जगह प्रियांक को देंगी। इसके बाद प्रियांक अपना स्थान छोड़ कर सपना को सेफ जोन में रखते हैं। लेकिन अपनी ये जगह वापस हिना के लिए त्याग देती हैं। इस दौरान हितेन, विकास और अर्शी तीनों मिलकर हिना को सेफ जोन से बाहर निकालने का प्लान करते हैं। वहीं हिना और सपना लव को सेफ जोन में डालने का प्लान बनाती हैं। जब सपना सबके सामने बताती हैं कि वह अब लव को सेफ जोन के अंदर अपनी जगह सौंप रही हैं तो सब शॉक हो जाते हैं। इसके बाद शिल्पा सपना के बीच भिड़ंत हो जाती हैं।

आखिर में टास्क के अंदर विकास, अर्शी, हितेन और लव ही रह जाते हैं। वहीं प्रियांक, शिल्पा, हिना, सपना, आकाश और पुनीश नॉमिनेशन में आ जाते हैं। आकाश अपना सुरक्षा कवच का इस्तेमाल कर नॉमिनेशन से इस बार सेफ हो जाते हैं। वहीं बंदगी को एक विशेषाधिकार दिया जाता है। इसके अंदर बिग बॉस को किसी एक नॉमिनेटिट व्यक्ति को सेफ करना होता है। इसके चलते बंदगी पुनीश का नाम लेकर उन्हें सेफ कर देती हैं।

 

डेंगू से 7 साल की बच्‍ची की मौत, फोर्टिस अस्‍पताल ने कहा-18 लाख का बिल देने के बाद मिलेगा शव

Tuesday, 21 November 2017 11:29

गुरुग्राम : गुरुग्राम में सात साल की बच्‍ची की डेंगू से मौत के बाद फोर्टिस अस्‍पताल ने बच्‍ची का शव ले जाने से पहले उसके परिजनों से 18 लाख रुपये का बिल देने को कहा. इस बिल में 2700 दस्‍ताने का बिल भी शामिल है. इस मामले में केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा ने सोमवार को ट्वीट करके सभी जरूरी डिटेल्स मांगी हैं और कहा है कि वह जरूरी कदम उठाएंगे. 

आदया को 31 अगस्‍त को डेंगू होने के चलते फोर्टिस अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था और 14 सितंबर को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. आदया अपने माता-पिता के साथ द्वारका में रहती थी. परिवारवालों का आरोप है कि उनकी बेटी को तीन दिन तक वेंटिलेटर पर रखा गया जबकि उस पर इलाज का कोई असर नहीं हो रहा था. 

आदया के परिवार के एक सदस्‍य का ट्वीट वायरल होने के बाद स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने प्रतिक्रिया दी है. आदया के पिता ने एएनआई से कहा कि मैं अपील करता हूं इस मामले की जांच हो और अगर कानून में बदलाव की कोई जरुरत हो तो जरूर किए जाए. हम नहीं चाहते जैसी परेशानी हमें हुई है वो किसी और को हो. 
वहीं इस मामले में फोर्टिज अस्‍पताल ने कहा है कि प्रोटोकॉल के तहत मरीज को इलाज के दौरान सभी मेडिकल गाइडलाइन का पालन किया गया और सभी दिशानिर्देशों का पालन भी किया गया.

भारत के इस्राइल से मिसाइलें नहीं खरीदने पर पाकिस्तान हुआ 'ज़्यादा ताकतवर', सेना परेशान

Tuesday, 21 November 2017 10:43

इस्राइल के साथ 50 करोड़ अमेरिकी डॉलर के मिसाइल सौदे से भारत सरकार के हट जाने की वजह से भारतीय फौजियों के पास पाकिस्तानी सेना की तुलना में 'कम ताकत' रह गई है. भारतीय सेना के सूत्रों ने NDTV को बताया कि पाकिस्तान के पास अपने इन्फैन्ट्री सौनिकों के लिए पोर्टेबल एन्टी-टैंक मिसाइलें हैं, जो तीन से चार किलोमीटर दूर मौजूद भारतीय टैंकों और बंकरों को निशाना बना सकती हैं, जबकि भारत के पास इसी तरह की जो मिसाइलें हैं, उनकी मारक क्षमता सिर्फ दो किलोमीटर है.

1,600 स्पाइक (Spike) एन्टी-टैंक गाइडेड मिसाइलें खरीदने के लिए हो रही बातचीत काफी आगे पहुंच जाने के बाद भारत इस सौदे से हट गया है, क्योंकि वह सेना की ताकत को बढ़ाने वाली मिलती-जुलती मिसाइलों को देश में विकसित तथा निर्मित करना चाहता है, ताकि अस्त्र आयात पर देश की निर्भरता कम करने की खातिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर ज़ोर दिया जा सके. स्पाइक ऐसी 'फायर एंड फॉरगेट' मिसाइल है, जो टैंकों जैसे चलते-फिरते टारगेट को भी निशाना बना सकती है. यह सक्षम मिसाइल दागे जाने के बाद खुद-ब-खुद टारगेट का पीछा करती है, जिससे इसे दागने वाले इन्फैन्ट्री फौजी को तुरंत छिपने का मौका आसानी से मिल जाता है. स्पाइक का निर्माण इस्राइल की राफेल एडवान्स्ड डिफेंस सिस्टम्स करती है.

 
spike missile
(भारत ने इजरायली मिसाइल को लेकर एक डील कैंसल कर दी थी)


पाकिस्तानी फौजी चीनी एचजे-8 (HJ-8) मिसाइलों के घरेलू संस्करण का इस्तेमाल करते हैं, जो मौजूदा वक्त में भारतीय सेना के पास मौजूद मिसाइलों की तुलना में लगभग दोगुनी दूरी तक वार कर सकती हैं. पाकिस्तानी इन्फैन्ट्री के पास अमेरिका-निर्मित TOW मिसाइलें भी हैं, जो इससे भी ज़्यादा दूरी पर मौजूद टारगेट भेद सकती हैं.

चीनी एचजे-8 मिसाइलें, जिन्हें पाकिस्तान 'बख्तर-शिकन' कहकर पुकारता है, का निर्माण टी-90 टैंकों पर लगे अत्याधुनिक एक्सप्लोसिव रिएक्टिव आर्मर को हराना है, जो इस वक्त भारतीय सेना का प्रमुख टैंक फॉर्मेशन है. 'बख्तर-शिकन' की रेंज तीन से चार किलोमीटर के बीच है. पाकिस्तानी TOW मिसाइलें, जो कभी अमेरिकी सेना का प्रमुख हथियार हुआ करती थीं, चार किलोमीटर दूर मौजूद निशानों को भेद सकती हैं, और युद्ध की स्थिति में कई बार कमाल दिखा चुकी हैं.

 
milan missile

(भारत की मिलान 2टी और कोनकूर्स मिसाइल दो किमी तक निशाना लगा सकती हैं)

इसके विपरीत, भारतीय सेना के इन्फैन्ट्री फौजी फ्रेंच-जर्मन मिलान 2टी या रूस-निर्मित 9एम113 'कोनकुर' मिसाइलें लेकर चलते हैं, और इन दोनों की ही मारक क्षमता सिर्फ दो किलोमीटर है.

पिछले साल, भारत ने इस्राइली राफेल के साथ स्पाइक मिसाइलों के लिए सौदे पर बातचीत पूरी कर ली थी, और उसके तहत मिसाइलों का निर्माण भारत में ही कल्याणी ग्रुप के साथ संयुक्त उपक्रम के अंतर्गत किया जाना था, तथा उसके लिए कल्याणी ग्रुप ने हैदराबाद के निकट मिसाइल-निर्माण इकाई भी स्थापित कर ली थी. बहरहाल, अब प्रधानमंत्री के 'मेक इन इंडिया' कार्यक्रम के तहत सरकार ने तय किया है कि सरकारी डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइज़ेशन (डीआरडीओ) को ही यह काम करने दिया जाए, जिनका दावा है कि वह चार साल के भीतर विश्वस्तरीय मिसाइल तैयार कर सकती है.

भारतीय सेना के सूत्रों ने बताया कि मिसाइल के विकास की यह प्रक्रिया इन्फैन्ट्री फॉर्मेशनों पर गंभीर असर डालेगी. उनका कहना है कि इस स्वदेशी मिसाइल के विकास, परीक्षण और सेना में तैनाती में चार साल से ज़्यादा लगना सेना को कतई अस्वीकार्य होगा.

इस्राइली समाचारपत्र 'इशाई डेविड' को दिए एक इंटरव्यू में राफेल के एक प्रवक्ता ने सोमवार को कहा, "राफेल को मिसाइलें खरीदने के निर्णय में किसी भी बदलाव की कोई आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है..." भारत में इस पर टिप्पणी करने के लिए कल्याणी ग्रुप से संपर्क नहीं हो पाया है.

मुस्लिम महिलाओं की पीएम नरेंद्र मोदी से गुहार- बंद करवाएं लड़कियों का खतना

Tuesday, 21 November 2017 09:44

दाऊदी बोहरा समुदाय से आने वाली कई महिलाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लड़कियों के खतना (फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन) को गैरकानूनी करार देने के लिए मदद की गुहार लगाई है। इन महिलाओं ने खतना के खिलाफ एक कैंपेन लॉन्च किया है। 19 नवंबर को वर्ल्ड डे फॉर प्रीवेंशन ऑफ चाइल्ड अब्यूस के अवसर पर वीस्पीकआउट बैनर तले इस ऑनलाइन कैंपेन की शुरुआत की गई है। आपको बता दें कि देश में खतना के खिलाफ कोई कानून नहीं है। हालांकि अन्य देशों में भी लड़कियों का खतना होता है लेकिन वह केवल एक निवारण के तौर पर किया जाता है।

बोहरा समुदाय की महिलाओं द्वारा पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा गया है कि केंद्र सरकार को कम से कम राज्य सरकारों और बोहरा सय्यदनाओं को एक एडवाइजरी जारी कर खतना को आईपीसी और पोस्को एक्त के तहत अपराध घोषित करने के लिए कहना चाहिए। वहीं खतना भी पोस्को एक्ट के तहत यौन उत्पीड़न को परिभाषित करती है। इस मुद्दे को महिला एंव बाल विकास मंत्रालय भी पहले उठा चुका है जिसमें यह वादा किया गया था कि देश में खतना प्रथा को बैन कर दिया जाएगा, लेकिन मंत्रालय के वादे केवल वादे रह गए जिसके कारण बोहरा समुदाय की महिलाओं ने इसके खिलाफ कैंपेन चलाया है।

इस पत्र में यह भी लिखा गया है कि खतना यौन हिंसा का ही एक प्रकार है जो कि एक व्यस्क महिला या लड़की के जीवन में गहरे भावात्मक, यौन और शारीरिक परिणाम डालते हैं। अब समय आ गया है कि इस हानिकारक प्रथा को खत्म कर दिया जाए जो कि महिलाओं और लड़कियों को केवल दर्द देने का काम करती है। इस अभियान में शामिल एक महिला मासूमा रानाल्वी ने इस पर बात करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी से साफारिश की है कि इस प्रथा को गैरकानूनी करार देते हुए खत्म किया जाए। इससे पहले भी बोहरा समुदाय प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर खतना को बैन करने की मांग कर चुका है।

 

गुजरात में बाकी सब पार्टियों को जितना मिला उसका चार गुना अकेले बीजेपी को चंदा, एक ही ग्रुप ने दिए 23 करोड़

Tuesday, 21 November 2017 09:42

 

साल 2011-12 से 2015-16 के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को गुजरात में दूसरी  पांच राजनीतिक पार्टियों के कुल चंदे से करीब चार गुना ज्यादा चंदा मिला। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) के अध्ययन के अनुसार बीजेपी को इस दौरान कुल 80.45 करोड़ रुपये चंदा मिला। ये चंदा 2186 दानदाताओं ने दिये हैं। चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार राजनीतिक दलों को 20 हजार रुपये से ज्यादा चंदे की जानकारी आयोग को देनी होती है। वहीं कांग्रेस, सीपीएम, सीपीआई, बीएसपी और एनसीपी को गुजरात से इस दौरान कुल मिलाकर 17.10 करोड़ रुपये ही चंदा मिला। गुजरात से बीजेपी को मिला चंदा उसे दूसरे राज्यों से मिले चंदे से ज्यादा है। बीजेपी को इस दौरान मिले कुल राजनीतिक चंदे 801.675 करोड़ रुपये का करीब 10 प्रतिशत उसे केवल गुजरात से मिला। बीजेपी को गुजरात से करीब 97.55 करोड़ रुपये चंदा मिला। गुजरात से सभी राष्ट्रीय पार्टियों को मिले चंदे का ये करीब 82 प्रतिशत है। पांच अन्य राष्ट्रीय दलों को गुजरात से मिले कुल चंदे का ये 4.7 गुना है।

बीजेपी के अलावा बाकी पांच राष्ट्रीय दलों में गुजरात से सबसे ज्यादा चंदा कांग्रेस को मिला। इन पांच दलों को मिले कुल 17.10 करोड़ रुपये में से करीब 14.09 करोड़ रुपये कांग्रेस को मिले। कांग्रेस को ये चंदा कुल 53 दानदाताओ से मिला। सीपीएम को करीब तीन करोड़ रुपये, सीपीआई को करीब एक करोड़ रुपये और एनसीपी और बीएसपी ने इस दौरान गुजरात से 20 हजार रुपये से अधिक राशि के चंदा न मिलने की बात कही। इन पांच सालों में राजनीतिक दलों को चंदा देने के मामले में सबसे आगे कार्पोरेट घराने रहे। सबसे अधिक चंदा टोरेंट पावर नामक कंपनी ने दिया। इस कंपनी में पांच साल में करीब 23 करोड़ रुपये राजनीतिक दलों को चंदा दिया जिसमें से 13.62 करोड़ रुपये बीजेपी को, 5.5 करोड़ रुपये कांग्रेस को और एक करोड़ रुपये एनसीपी को दिया। टोरेंट फार्मा नामक कंपी ने बीजेपी को नौ करोड़ रुपये, कांग्रेस को 3.50 करोड़ रुपये और एनसीपी को एक करोड़ रुपये दान दिया। कैडिला हेल्थकेयर ने बीजेपी को 2.60 करोड़ रुपये, कांग्रेस को एक करोड़ रुपये और एनसीपी को एक करोड़ रुपये चंदे के तौर पर दिया।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने सोमवार (20 नवंबर) को राजकोट पश्चिमी विधानसभा सीट से अपना पर्चा दाखिल करते समय अपने पास 9.08 करोड़ रुपये की संपत्ति होने की घोषणा की। इस सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार इंद्रानील राज्यगुरु ने अपने पास 141.22 करोड़ रुपये की संपत्ति होने की घोषणा की है। रुपानी की संपत्तियों में उनकी पत्नी के नाम की चल एवं अचल संपत्तियां भी शामिल हैं। वर्ष 2014 में जब वह उपचुनाव लड़े थे तब उन्होंने 7.21 करोड़ रुपये की संपत्ति का मालिक होने की घोषणा की थी। हलफनामे के अनुसार मुख्यमंत्री के पास नकद और गहने मिलाकर 3.45 करोड़ रुपये की चल संपत्ति है जबकि उनकी पत्नी अंजलिबेन के पास 1.97 करोड़ रुपये की चल संपत्ति है। रुपानी 3.83 लाख रुपये के आभूषण के मालिक और उनकी पत्नी 14.11 लाख रुपये के गहने की मालकिन हैं। उनके पास इनोवा कार और पत्नी के पास मारुति वैगन आर कार हैं।

रुपानी दंपति के पास 3.65 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति हैं जिनमें भूखंड और आवासीय संपत्तियां आदि शामिल हैं। वर्ष 2016-17 के आईटी रिटर्न के अनुसार रुपानी की वार्षिक आय 18.01लाख रुपये है जबकि उनकी पत्नी की वार्षिक आय 3.37 लाख रुपये है। रुपानी के कांग्रेस प्रतिद्वंद्वी राज्यगुरु 2012 के गुजरात विधानसभा चुनाव में दूसरे सबसे अमीर उम्मीदवार थे। उस वक्त उनके पास 122 करोड़ रुपये की संपत्ति थी।

 

 

फिल्म 'पद्मावती' पर बोले मौर्य, विवादित दृश्य हटाये बिना नहीं होगा प्रदर्शन

Tuesday, 21 November 2017 09:37

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सहारनपुर में बीजेपी कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद पत्रकारों से कहा कि जब तक 'पद्मावती' फिल्म के विवादित दृश्यों को नहीं हटाया जाता, तब तक यूपी में इस फिल्म का लेकर कोई प्रदर्शन नहीं होगा.

पदमावती फिल्म को लेकर पूरे देश में विरोध का माहौल बना हुआ है. इससे पहले बीजेपी कार्यकर्ता सम्मेलन में मौर्य ने दावा किया कि उतर प्रदेश की 16 नगर निगमों, नगर पंचायतों की 90 प्रतिशत सीटे बीजेपी की झोली में आने वाली है. बसपा, कांग्रेस और सपा की तिकड़ी मोदी रोको प्रतियोगिता में व्यस्त है.

उन्होंने कहा कि यूपी में बीजेपी की सरकार बनते ही यहां सड़कों को गड्ढा मुक्त किया गया है, बिजली की व्यवस्था में सुधार हुआ है, किसान मजदूर और आम जनता राहत महसूस कर रही है. किसानों की कर्ज माफी और गन्ना किसानों का बकाया भुगतान इसके प्रमाण है, जबकि बीजेपी से पूर्व बनी सरकारों ने केवल जनता को भ्रमित कर लूटने खसोटने और उत्तरप्रदेश को गर्त मे धकेलने का काम किया है जबकि बीजेपी 'सबका साथ सबका विकास' की राह पर चलकर प्रदेश और देश का विकास कर रही है.

उपमुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं को भाजपा की ताकत बताते हुए अधिकारियों का आह्वान किया कि वे कार्यकर्ताओ का सम्मान करते हुए उनकी जनता से सम्बधित समस्याओं का समाधान करे. मौर्य ने कहा कि निकाय चुनाव आने पर अखिलेश यादव को भगवान कृष्ण की याद आई है, वे सैफई में कृष्ण की मूर्ति बनवा रहे है, जबकि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में हुई हार के बाद राहुल गांधी मन्दिरों में जाकर जलाभिषेक करने लगे है. मौर्य ने दावा किया कि निकाय चुनाव में भाजपा इतिहास रचने जा रही है.             

पार्किंग नियम तोड़ कर खड़ी की गयी कार की तस्वीर खींचो, इनाम पाओ: नितिन गडकरी

Tuesday, 21 November 2017 09:10

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज नागरिकों से कहा कि अगर कोई पार्किंग के नियम तोड़ कर गलत जगह पर अपनी कार खड़ी करता है तो उसकी तस्वीर खींचकर संबंधित अधिकारियों या प्राधिकरणों को भेजें. इसके आधार पर संबंधित वाहन मालिक से लिए जाने वाले जुर्माने का 10 प्रतिशत इनाम फोटो भेजने वाले व्यक्ति को मिल सकता है.

गडकरी ने कहा, "अपने मंत्रालय के बाहर पार्किंग स्थल नहीं होने से उन्हें खुद "शर्म" महसूस होती है, जिसके कारण "राजदूतों" और बड़े लोगों को वहां सड़क पर गाड़ी खड़ी करनी पड़ती है और संसद का रास्ता बाधित होता है.

जिसके कारण मोटर वाहन अधिनियम में, मैं एक नया प्रावधान जोड़ने जा रहा हूं. इसके तहत सड़क पर कोई भी गाड़ी खड़ी हो, तो सिर्फ मोबाइल से उसकी तस्वीर खींचकर संबंधित विभाग या पुलिस को भेजनी होगी. उसके आधार पर वाहन मालिक पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा और इसकी 10 प्रतिशत राशि शिकायतकर्ता को जाएगी."                     

मेक इन इंडिया के तहत छोटे विमान के सपने को मिले पंख, 6 साल के बाद डीजीसीए ने किया रजिस्ट्रेशन

Tuesday, 21 November 2017 09:09

मुंबई:  6 साल बाद ही सही आखिरकार डीजीसीए ने देश मे बने पहले 6 सीटर विमान को   रजिस्टर कर ही दिया. रजिट्रेशन के बाद विमान के परीक्षण उड़ान का रास्ता साफ हो गया है और इसके साथ ही देश मे अब स्वदेशी विमान बनाने के सपने का मार्ग भी खुल गया है. खासबात है कि इस कोशिश में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से मिली मदद के लिए इस विमान का नाम VT NMD यानी विक्टर टैंगो नरेंद्र मोदी देवेंन्द्र रखा गया है. मुंबई के कांदिवली में रहने वाले कैप्टन अमोल यादव का कहना है जो काम तीन दिन में होना चाहिए था उसके लिए 6 साल लग गए क्योंकि देश मे बने विमान के रजिस्ट्रेशन का कोई नियम ही नहीं था. अब जल्द ही बाकी की प्रक्रिया पूरी करने के बाद परीक्षण उड़ान की इजाजत मिलते ही उनका विमान हवा में उड़ान भरेगा.

देश में जो बड़ी बड़ी निजी और सरकारी कंपनियां नहीं कर पाईं उसे एक शख्स ने कर दिखाया. लेकिन ये आसान नहीं था, इसके लिए कैप्टन अमोल यादव को अपना एक घर बेचना पड़ा, लालफीताशाही से लड़ना पड़ा. तब जाकर उनके सपने को पंख मिला है, अब बस उड़ान भरने की देरी है.

कैप्टन अमोल यादव ने साल 2009 में ही कांदिवली में बिल्डिंग के छत पर ही तकरीबन 4 करोड़ खर्च कर 6 सीटों वाला हवाई जहाज बनाया था. साल 2016 में मुंबई में मेक इन इंडिया के तहत उसे प्रदर्शित भी किया गया. लेकिन परीक्षण उड़ान की ईजाजत साल 2011 से लटकी पड़ी थी.

आखिरकार मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के निवेदन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हस्तक्षेप किया तब जाकर रजिस्ट्रेशन हो पाया. लिहाजा पायलट ने अपनी पूरी मेहनत दोनों के नाम समर्पित कर दी है. कैप्टन बताते है ये कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की कोशिश का ही नतीजा है कि उनका सपना सच होने को है. इसलिए अपने विमान को दोनों का नाम देकर उन्होंने अपनी कृतज्ञता प्रकट की है. इसके पहले कैप्टन अमोल यादव ने आरोप लगाया था कि डीजीसीए सालों तक ना सिर्फ उनके आवेदन पर बैठा रहा बल्कि पुराने नियम को भी बदल दिया था लेकिन पीएमओ के हस्तक्षेप के बाद पुराना नियम फिर से बहाल हुआ.

कैप्टन अमोल यादव की प्रतिभा का लोहा मान महाराष्ट्र सरकार ने उनकी कंपनी के साथ करार किया है और पालघर में एक जमीन भी आवंटित की है. लेकिन डीजीसीए में रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाने की वजह से सबकुछ अधर में लटका पड़ा था. इस बीच कैप्टन अमोल ने अपनी उसी छत पर अब 19 सीटर विमान बनाने का काम शुरू भी कर दिया है.

जब अधिकारी ने दी किसान को नसीहत, खेती छोड़कर मजदूरी करो या लड़ो सरपंच का चुनाव

Tuesday, 21 November 2017 09:07

भोपाल: पूरे देश के किसान दिल्ली में कूच कर रहे हैं, लेकिन नेता-अफसरशाही को शायद लगता है ये सिर्फ सियासत है और वो अन्नदाता की पूरी मदद कर रहे हैं. ये भूलकर कि पिछले 10 साल में अकेले मध्यप्रदेश में 11000 से ज्यादा किसान खुदकुशी कर चुके हैं.  वहीं किसानों को लेकर अधिकारियों की सवेदनहीनता का एक और मामला मध्य प्रदेश से सामने आया है. जहां एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राधेश्याम किसानों को खेती छोड़कर मजदूरी करने या फिर सरपंच का चुनाव लड़ने की नसीहत दे डाली. आपको बता दें कि किसान उनके पास अपने परेशानी लेकर गए थे.

इससे पहले मध्य प्रदेश में नरसिंहपुर जिले के इमझीरी डींगसरा गांव में 22 साल के रंजीत सिलावट ने कथित तौर पर खुदकुशी कर ली. उसकी दलहन की खेती डूब गई और पिता कैंसर से पीड़ित हैं. ऐसे में कर्ज का बोझ फंदा बनकर रंजीत के गले में फंस गया.

किसानों की दिक्कत समझने एडिश्नल चीफ सेक्रेट्री राधेश्याम जुलानिया खुजनेर मंडी पहुंचे थे लेकिन वहां उनके बयान से सरकार की दिक्कतें और बढ़ सकती हैं. एसीएस राधेश्याम जुलानिया ने किसान से कहा कि सरकार तुम्हारे लिये काम कर रही है अगर नहीं हो रहा तो नरेगा में मजदूरी का काम खुला है वो कर लो या सरपंच का चुनाव लड़ लो उसमें ज्यादा कमाई है.

किसान को झिड़कने के मुद्दे पर तो जुलानिया ने कुछ नहीं कहा, मैसेज के जरिये सिर्फ अपनी सफाई में इतना बताया कि छोटे और सीमांत किसान नरेगा के तहत जॉब कार्ड के लिए पात्र हैं. सरकार किसानों की मदद के लिए हर संभव कदम उठा रही है लेकिन अगर किसी के पास पर्याप्त काम नहीं है, तो सरकार ने नरेगा के तहत मजदूरी की गारंटी दी है, जो कि सभी सीमांत और छोटे किसानों के लिए उपलब्ध है. अपनी आय में वृद्धि करने के लिए वो नरेगा के तहत मजदूरी का लाभ ले सकता है.

बीजेपी प्रवक्ता राहुल कोठारी ने कहा कि कांग्रेस ने भावांतर को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा की जिससे आक्रोश हुआ जिसमें उस व्यक्ति ने एसीएस से चर्चा की. उन्‍होंने कहा कि अधिकारी को चाहिये था संभाल लेते, इस तरह का जवाब नहीं देते.

कांग्रेस प्रवक्‍ता के के मिश्रा ने कहा कि जिस ढंग से ग्रामीण जनों को जुलानिया जिन्हें मुख्यमंत्री का सरंक्षण मिला है, सीधे तौर पर मुख्यमंत्री को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए माफी मांगनी चाहिए.

POPULAR ON IBN7.IN