बिहार में घर में घुसकर सरपंच को गोली मारी, हालत गंभीर

Thursday, 14 March 2013 20:15

शिवहर, 12 मार्च (आईएएनएस)| बिहार के शिवहर जिले के श्यामपुर भटहां क्षेत्र में मंगलवार की सुबह कुछ अपराधियों ने एक सरपंच को उनके घर में घुसकर गोली मार दी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना से आक्रोशित लोगों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। लोगों को सड़क से हटाने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस के अनुसार नया गांव (पश्चिमी) पंचायत के सरपंच और भोरहा गांव निवासी नंदकिशोर राय जब अपने घर के बाहर बैठे थे, तभी एक मोटरसाइकिल पर आए तीन हथियारबंद अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी। गंभीर रूप से घायल सरपंच को मुजफ्फरपुर स्थित एस.के. मेडिकल कॉलेज अस्पताल भेजा गया है।

घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 104 को जामकर दिया और प्रदर्शन किया। जब पुलिस के समझाने के बाद भी लोग नहीं हटे तब पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर उन्हें हटाया। लोगों का कहना है कि पुलिस की कार्रवाई में लगभग 10 प्रदर्शनकारी घायल हो गए।

पुलिस मामले की जांच कर रही है, अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

गोपनीय ई-मेल सर्च को लेकर हारवर्ड नए विवाद में

Thursday, 14 March 2013 18:59

कैम्ब्रिज, 12 मार्च (आईएएनएस)| पिछले वर्ष धोखाधड़ी के एक मामले के मीडिया में लीक होने के स्रोत का पता लगाने को लेकर उठे ताजा विवादों का सामना कर रहे अमेरिका के सबसे प्राचीन उच्च शिक्षण संस्थान, हारवर्ड विश्वविद्यालय के एक स्कूल, आइवी लीग हारवर्ड कॉलेज ने माफी मांग ली है।

हारवर्ड कॉलेज के डीन द्वय -माइकल डी. स्मिथ और एवीलिन एम. हैमंड्स- ने इस बात पर जोर देकर कहा है कि इस सर्च अभियान में सिर्फ प्रशासनिक खातों की खोजबीन की गई है, तथा ई-मेल की सामग्री का अध्ययन नहीं किया गया है।

समाचार चैनल समूह सीएनएन के अनुसार इस सर्च अभियान में गोपनीय ई-मेल संदेश को पुन:प्रेषित करने वाले एक डीन की पहचान कर ली गई है। हालांकि स्कूल अधिकारियों का कहना है पूछताछ में डीन ने स्वीकार किया है कि दो छात्रों को भेजा गया ई-मेल संदेश एक अनजाने में हुई गलती है और उन्होंने जानबूझ कर नियमों को नहीं तोड़ा है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

चीन की फुटबाल टीम में चुने जाने से चेन हैरान

Thursday, 14 March 2013 18:58

साओ पाउलो, 12 मार्च (आईएएनएस)| फुटबाल क्लब कोरंथियंस के लिए खेलने वाले चीन के विंगर चेन जिझाओ ने अपने देश की राष्ट्रीय फुटबाल में पहली बार चुने जाने पर पर हैरानी जताई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चेन को सोमवार को कोच जोस एंटिनियो कैमेको ने इराक के खिलाफ 22 मार्च को एशियाई कप-2015 क्वालीफायर के लिए टीम में शामिल किया गया है।

चेन ने कहा, "मुझे थोड़ी हैरानी हुई, परंतु मुझे खुशी है कि मैं अपने देश के लिए खेलने के योग्य हूं। मैं कोरंथियंस के कोच और खिलाड़ियों का शुक्रिया अदा करता हूं।'

चेन को पिछले साल ही ब्राजील के क्लब कोरंथियंस में शामिल किया गया था।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

कश्मीर विधानसभा में अफजल के शव पर हंगामा

Thursday, 14 March 2013 18:57

जम्मू, 12 मार्च (आईएएनएस)| जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में मंगलवार को संसद हमले के दोषी अफजल गुरु का शव उसके परिजनों को सौंपे जाने की मांग उठाई गई, जिस पर खूब हंगामा हुआ और सदन की कार्यवाही बाधित हुई। जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में अफजल का शव उसके परिजनों को सौंपने की मांग सोमवार को पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने उठाई, जिसका भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जम्मू एवं कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी (जेकेएनपीपी) ने विरोध किया।

इससे पहले सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे अफजल का शव उसके परिजनों को सौंपे जाने से इंकार कर चुके हैं। उसे नौ फरवरी को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी दी गई थी और वहीं उसे दफनाया जा चुका है।

जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में मंगलवार को अफजल के शव की पीडीपी की मांग और भाजपा तथा जेकेएनपीपी द्वारा उसके विरोध के कारण हंगामा शुरू हो गया, जिसके कारण विधानसभा अध्यक्ष मुबारक गुल को दो बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी।

तीसरी बार सदन की कार्यवाही शुरू होने पर राज्य के कानून मंत्री मीर सैफुल्ला ने अफजल को 'अफजल गुरु साहिब' कहा, जिसके बाद भाजपा और जेकेएनपीपी के सदस्य अपनी सीट से खड़े होकर नारेबाजी करने लगे। हंगामे के कारण विधानसभा अध्यक्ष ने एक बार फिर सदन की कार्यवाही अपराह्न् तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

तीसरे स्थगन के बाद अपराह्न् तीन बजे कार्यवाही शुरू होने पर और भी बुरी स्थिति हो गई। विपक्षी दल के सदस्यों ने निर्दलीय विधायक इंजीनियर राशिद को सदन से बाहर धकेल दिया। विपक्ष के नाराज सदस्यों ने जेकेएनपीपी नेता हर्षदेव सिंह की बेंच भी तोड़ दी। हंगामे के बीच वन मंत्रालय की अनुदान मांगों को 10 मिनट में पारित किया गया।

जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला तथा विपक्षी दल पीडीपी के संरक्षक व राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद, दोनों ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर अफजल का शव उसके परिजनों को सौंपने की मांग की है।

इंडो-एश्यिन न्यूज सर्विस।

 

फोन टैपिंग मामला : वीरभद्र ने लगाए आरोप, धूमल ने किया खंडन

Thursday, 14 March 2013 18:56

शिमला, 12 मार्च (आईएएनएस)| हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने मंगलवार को, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल पर अपने कार्यकाल के दौरान बड़ी संख्या में राजनीतिज्ञों तथा नौकरशाहों के फोन टेप कराने के आरोप लगाए। धूमल ने वीरभद्र के आरोपों का खंडन किया।

मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से कहा, "धूमल जब राज्य के मुख्यमंत्री थे, तब तत्कालीन पुलिस महानिदेशक डी.एस. मन्हास, उनके उत्तराधिकारी आई.डी. भंडारी तथा कुछ अन्य पुलिस अधिकारी उनकी सहायता कर रहे थे।"

उन्होंने आगे कहा, "धूमल चूंकि तब गृह मंत्री भी थे, लिहाजा उनके फोन टेपिंग में शामिल होने का यह स्पष्ट संकेत है।"

वीरभद्र ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में कभी फोन टेप नहीं किए गए। उन्होंने बताया, "धूमल के मुख्यमंत्रित्वकाल में ही ऐसी छुद्र घटना हुई। जब मैं विपक्ष में था, तब हिमाचल भवन (चंडीगढ़ तथा दिल्ली में स्थित राज्य अतिथि गृह) के मेरे कमरे तक में माइक्रोफोन लगाए गए।"

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ऐसे समय में फोन टेपिंग का विवरण नहीं दे सकती। उन्होंने कहा, "सतर्कता जांच आयोग द्वारा इस मामले की जांच पूरी हो जाने के बाद सरकार इस मामले के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराएगी तथा जरूरी कार्रवाई करेगी।"

दूसरी ओर धूमल ने अपना बचाव करते हुए पत्रकारों से कहा कि फोन टेपिंग मामले पर राज्य की जनता को गुमराह करके कांग्रेस स्थिति का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है।

उन्होंने ध्यान दिलाया कि इससे पहले वीरभद्र सिंह के मुख्यमंत्रित्वकाल में मुख्य सचिव तथा एक राजनेता के बीच हुई बातचीत को टेप करवाया गया था।

पूर्व मुख्यमंत्री धूमल ने कहा कि सरकार को उच्च न्यायालय के किसी न्यायाधीश से मामले की जांच करवानी चाहिए।

पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री ने कहा था कि 1,371 फोन टेप करवाए गए थे। जबकि गृह विभाग ने सिर्फ 170 फोन टेप करने की इजाजत दी थी।

गैर कानूनी फोन टेपिंग के समय सीआईडी के प्रमुख रहे भंडारी को पिछले महीने हटा दिया गया।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

सीओ हत्याकांड : सीबीआई हिरासत में भेजे गए दोनों आरोपी

Thursday, 14 March 2013 18:52

लखनऊ, 12 मार्च (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश में कुंडा के सीओ जिया उल हक सहित तीन हत्याओं के मामले में गिरफ्तार दोनों आरोपियों को लखनऊ स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने छह दिन के लिए सीबीआई की हिरासत में भेजने का आदेश दिया।

मामले की जांच कर रही सीबीआई ने विशेष अदालत से अनुरोध किया था कि पूछताछ के लिए दोनों आरोपियों को 14 दिन के लिए रिमांड पर भेजा जाए। मगर अदालत ने मंगलवार को सुनवाई के बाद दोनों आरोपियों को गुड्डू सिंह और राजीव सिंह को मात्र छह दिन के लिए सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया।

अदालत के आदेश के मुताबिक, दोनों आरोपियों को सीबीआई बुधवार सुबह 10 बजे रिमांड पर लेगी और 18 मार्च की शाम चार बजे के बाद न्यायिक अभिरक्षा में वापस प्रतापगढ़ जेल भेजेगी।

कुंडा के तिहरे हत्याकांड की जांच कर रही सीबीआई को हालांकि पांच दिन बाद भी कोई ठोस सुराग या साक्ष्य हाथ नहीं लगा है। जांच एजेंसी को लगता है कि जेल में बंद दोनों गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में हत्याकांड के बाबत कुछ अनसुलझे सवालों से जवाब मिल सकते हैं।

सीबीआई कुंडा के स्थानीय पंचायत कार्यालय में अपना शिविर कार्यालय खोलकर घटना की पड़ताल कर रही है। घटना के दिन सीओ को अकेला छोड़कर भागने के आरोप में निलंबित चार पुलिसकर्मियों से सीबीआई कई बार पूछताछ कर चुकी है।

इसके अलावा सोमवार को सीबीआई अधिकारियों ने सीओ के शव का पोस्टमार्टम करने वाले डक्टरों से भी पूछताछ की, लेकिन सूत्र बताते हैं कि अभी तक न तो हत्याओं की वजह का पता चल सका है और न ही कोई गवाह मिला है।

इस बीच सीबीआई ने कई लोगों से भी पूछताछ की है, लेकिन कोई राजा भैया के बारे में अपनी जुबान नहीं खोल रहे हैं। सीबीआई की तरफ से अपील जारी कर ग्रामीणों से सहयोग मांगा गया है, लेकिन अभी तक कोई शख्स सामने नहीं आया है।

हत्या में नाम आने के बाद पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। उनसे अभी तक पूछताछ नहीं हुई है।

गौरतलब है कि विगत दो मार्च को वलीपुर गांव में ग्राम प्रधान नन्हें यादव की हत्या के बाद गांव में जमकर हंगामा हुआ था। इसी दौरान ग्राम प्रधान के भाई रमेश को समझाने और बवाल को रोकने गए सीओ जिया उल हक की भीड़ ने कथित तौर पर हत्या कर दी थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

पाकिस्तान के निर्वाचन अधिकारी की गोली मारकर हत्या

Thursday, 14 March 2013 18:50

इस्लामाबाद, 12 मार्च (आईएएनएस)| पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में मंगलवार को एक अज्ञात बंदूकधारी ने एक निर्वाचन अधिकारी की गोली मारकर हत्या कर दी।

पाकिस्तानी समाचार चैनल 'जीयो न्यूज' के अनुसार प्रांतीय निर्वाचन उपायुक्त, जिनकी पहचान जियाउल्ला के रूप में की गई, अपने घर जा रहे थे कि रास्ते में चांदी चौक के निकट एक अज्ञात बंदूकधारी ने उनकी कार पर हमला कर दिया।

गोली लगने से घायल जियाउल्ला की अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मृत्यु हो गई।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

इतालवी सुरक्षाकर्मियों के मामले में सांठगांठ का माकपा का आरोप

Thursday, 14 March 2013 18:49

तिरुवनंतपुरम, 12 मार्च (आईएएनएस)| केरल में विपक्षी वाम मोर्चे ने राज्य तट से लगे अरब सागर में दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इतालवी सुरक्षा कर्मियों को वापस भारत न भेजने के इटली के निर्णय को लेकर केरल की कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार तथा केंद्र सरकार पर इटली के साथ 'सांठगांठ' के आरोप लगाए हैं। केरल के पूर्व गृह मंत्री कोदियरी बालाकृष्ण ने आईएएनएस से कहा, "यह केरल सरकार, केंद्र सरकार तथा इटली की सरकार के बीच का खेल है। लेकिन मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) इस मामले में चुप नहीं बैठेगी। हम उनके बीच की साठगांठ को बेनकाब करेंगे और कड़े विरोध के जरिए इसे लोगों के सामने लाएंगे।"

ज्ञात हो कि सर्वोच्च न्यायालय ने इतालवी मालवाहक जहाज के आरोपी सुरक्षा कर्मियों- मेस्सिमिलानो लाटोरे तथा सेलवाटोरे जिरोने- को इटली में 24-25 फरवरी को होने वाले आम चुनाव में मतदान के लिए स्वदेश जाने की अनुमति दी थी। न्यायालय ने इससे पहले क्रिसमस पर भी उन्हें अपने देश जाने की अनुमति दी थी, जिसके बाद वे भारत लौट आए थे, लेकिन इस बार इटली ने उन्हें भारत भेजने से मना कर दिया है।

इटली के उक्त दोनों सुरक्षाकर्मियों पर फरवरी 2012 में अरब सागर में भारतीय मछुआरों की नौका को समुद्री लुटेरे समझकर उन पर गोली चलाने का आरोप है, जिसमें दो मछुआरों की मौत हो गई थी। इस मामले में उनके खिलाफ यहां मुकदमा चल रहा है।

इटली का कहना है कि यह घटना अंतर्राष्ट्रीय जल क्षेत्र में हुई थी, इसलिए मुकदमा उनके यहां चलेगा। लेकिन भारत का दावा है कि घटना उसके समुद्र क्षेत्र में घटी थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

अजलान शाह हॉकी : पाकिस्तान को हराकर भारत ने खोला खाता

Thursday, 14 March 2013 18:48

इपोह (मलेशिया), 12 मार्च (आईएएनएस)| भारतीय हॉकी टीम ने मंगलवार को खेले गए अहम लीग मुकाबले में पाकिस्तान को 3-1 से हराकर 22वें सुल्तान अजलान शाह कप हॉकी टुर्नामेंट में अपनी जीत का खाता खोला है। तीन मैचों में भारत की यह पहली जीत है जबकि पाकिस्तान को दूसरी हार मिली है। इस जीत ने भारत को खिताब की दौड़ में बनाए रखा है, लेकिन शुरुआती दो मैच हारने के कारण उसका रास्ता थोड़ा कठिन दिखाई दे रहा है। फाइनल में पहुंचने के लिए उसे आगे के अपने दोनों मैच हर हाल में जीतने होंगे।

भारत के लिए रुपिंदर पाल सिंह ने छठे, आकाशदीप सिंह ने नौवें और मंदीप सिंह ने 56वें मिनट में गोल किए जबकि पाकिस्तान के लिए मैच का एकमात्र गोल वकास मोहम्मद ने तीसरे मिनट में किया।

इस हाइवोल्टेड मैच का पहला गोल पाकिस्तान ने किया। तीसरे मिनट में मिले पेनाल्टी कार्नर पर वकास मोहम्मद ने मोहम्मद इमरान के फ्लिक को अपनी स्टिक से छुआ, जो सीधे भारत को गोलपोस्ट में घुस गई।

तीन मिनट के बाद ही भारत को पहला पेनाल्टी कार्नर मिला, जिस पर गोल करके रुपिंदर पाल सिंह ने स्कोर 1-1 कर दिया। भारत को पेनाल्टी कार्नर दिए जाने पर पाकिस्तान के फरीद अहमद ने विरोध जताया, जिस पर उन्हें ग्रीन कार्ड दिखाया गया।

इसके बाद भारत ने नौवें मिनट में एक शानदार मैदानी गोल के जरिए बढ़त बनाई। चेंगलानसाना ने 25 गज की दूरी से पाकिस्तानी डी-एरिया में एक तेज पास दिया। भारतीय फारवर्ड चौकन्ने थे। अपनी ओर तेजी से आती गेंद को गोलपोस्ट की ओर धकेलते हुए आकाशदीप सिंह ने भारत को दूसरी सफलता दिलाई।

इसके बाद भारत को 50 से 52वें मिनट में गोल करने के दो शानदार मौके मिले लेकिन वह इन्हें भुना नहीं सकी। मंदीप सिह ने हालांकि 56वें मिनट में कप्तान दानिश मुत्जबा के पास को डिफलेक्ट करके अपनी टीम को 3-1 से आगे कर दिया।

पाकिस्तान को 58वें से 69वें मिनट के बीच चार पेनाल्टी कार्नर मिले लेकिन वह इनके जरिए कोई करिश्मा नहीं कर सका। ये मौके उसे न सिर्फ बराबरी दिला सकते थे बल्कि दो गोल के अंतर से आगे भी कर सकते थे।

इससे पहले, दिन के पहले मैच में न्यूजीलैंड ने कोरिया को 3-0 से हरा दिया। तीन मैचों में न्यूजीलैंड की यह पहली जीत है जबकि कोरिया को दूसरी हार मिली है। कोरिया ने अपने दूसरे मैच में भारत को 2-1 से हराया था।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

चीन ने पश्चिमी राजनीतिक व्यवस्थाओं को खारिज किया

Thursday, 14 March 2013 18:47

बीजिंग, 12 मार्च (आईएएनएस)| चीन के सर्वोच्च परामर्शदात्री निकाय के नव निर्वाचित नेता यू झेंगशेंग ने मंगलवार को वादा किया कि चीन रायम-मशविरे वाले लोकतंत्र को बढ़ावा देगा। वह किसी भी हालात में पश्चिमी राजनीतिक व्यवस्था का नकल नहीं करेगा।

चाइनीज पीपुल्स पॉलिटिकल कंसलटेटिव कांफ्रेंस (सीपीपीसीसी) के 12वीं राष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष, झेंगशेंग ने कहा, "हमें कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के नेतृत्व को दृढ़ता से समर्थन देने की जरूरत है। हमें सीपीसी के नेतृत्व के तहत बहुदलीय सहयोग और राजनीतिक परामर्श को बेहतर बनाने और उसका पालन करने की जरूरत है।"

12वें सीपीपीसीसी की राष्ट्रीय समिति के पहले सत्र के समापन बैठक के अवसर पर दो हजार से ज्यादा राजनीतिक सलाहकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "हमें चीनी विशिष्टता से युक्त राजनीतिक विकास के समाजवादी मार्ग का दृढ़ता से अनुपालन करना है। हमें किसी भी हालत में पश्चिम के राजनीतिक व्यवस्थाओं का नकल नहीं करना है। हमेशा सही राजनीतिक रुख की दिशा में चलना है। सीपीपीसीसी की सामूहिक संघर्ष की विचारधारा और राजनीतिक बुनियाद को मजबूती प्रदान करना है।"

अप्रैल 1945 में जन्मे यू सोमवार को नए पद पर निर्वाचित हुए। वे सीपीसी की केंद्रीय समिति के राजनीतिक ब्यूरो के स्थायी समिति के भी सदस्य हैं।

उन्होंने कहा, "हमें सबसे अहम काम आर्थिक विकास पर ध्यान टिकाने और देश हित में सेवा करने का है। पार्टी और देश को ध्यान में रखते हुए सीपीसीसीसी के काम के लिए जागरूकता से योजना बनाने और उसके लिए उपाय करने की जरूरत है।"

समापन बैठक के अपने संबोधन में यू ने परामर्शी लोकतंत्र के बढ़ावा देने के लिए वचनबद्धता दिखाई। उन्होंने कहा कि यह समाजवादी लोकतंत्र की आंतरिक जरूरतों को पूरा करता है।

उन्होंने कहा, "सीपीपीसीसी का परामर्शी लोकतंत्र संविधान, सीपीपीसीसी चार्टर और प्रासंगिक नीतियों को अपना आधार बनाता है। यह सीपीसी के नेतृत्व के अंतर्गत बहुदलीय सहयोग और राजनीतिक परामर्श का वचन देता है।"

उन्होंने कहा, "यह परामर्श, निरीक्षण, सहभागिता और सहयोग को एकजुट करता है। यह सरकारी नीतियों के निरीक्षण करने, उस पर विचार रखने, उसमें सहभागी होने और व्यक्तियों के सूचित रहने के अधिकार को संगठित करता है। यह समाजवादी लोकतंत्र के आंतरिक जरूरतों को पूरा करता है। यह लोगों के मौलिक हितों के अनुरूप है।"

उन्होंने आगे कहा, "हमें परामर्शी लोकतंत्र के रूपों को समग्र रूप से विस्तार करने की जरूरत है। विशिष्ट मुद्दों और सुझावों के प्रबंधन के लिए परामर्श को बेहतर बनाने की जरूरत है।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

दुष्कर्म रोधी विधेयक पर कैबिनेट में मतभेद

Thursday, 14 March 2013 18:46

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| दुष्कर्म के खिलाफ कड़ी सजा के प्रावधानों वाले कानून से संबंधित विधेयक के मसौदे को अंतिम रूप देने के लिए मंगलवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक बुलाई गई, जिसमें विभिन्न मंत्रालयों के बीच मतभेद खुलकर सामने आए। इसके बाद इसे मंत्री समूह (जीओएम) के पास भेजने का निर्णय लिया गया, ताकि मतभेदों का समाधान निकाला जा सके। इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा कि गुरुवार तक मतभेद दूर कर लिए जाएंगे और इसे 22 मार्च को पारित कर दिया जाएगा।

विधेयक को संसद से पारित करवाने की जल्दबाजी इसलिए है, क्योंकि केंद्र सरकार ने दुष्कर्म के खिलाफ जो अध्यादेश जारी किया था, वह राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हस्ताक्षर के बाद तीन फरवरी से ही अस्तित्व में है। इस तारीख से छह सप्ताह के भीतर इसे संसद से मंजूरी आवश्यक है। मौजूदा बजट सत्र का पूर्वार्ध 22 मार्च को समाप्त हो रहा है और सत्र का उत्तरार्ध 22 मई को शुरू होगा।

विधेयक पर मतभेदों को दूर करने के लिए इसे केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम की अध्यक्षता वाले मंत्री समूह के पास भेजा जा रहा है, जिसमें केंद्रीय कानून मंत्री अश्विनी कुमार, केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे, केंद्रीय संचार एवं प्रौद्योगिकी मंत्री कपिल सिब्बल तथा केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ भी शामिल हैं।

शिंदे ने संवाददाताओं से कहा, "मंत्री समूह की बैठक जल्द होगी। हमें भरोसा है कि मामले का समाधान गुरुवार तक निकल आएगा और 22 मार्च तक विधेयक संसद से पारित हो जाएगा।"

सूत्रों के अनुसार, किशोरों की उम्र 18 साल से घटाकर 16 साल करने, पीछा करने व गलत दृष्टि से देखने के लिए सजा के प्रावधान के अतिरिक्त कानून को लैंगिक रूप से तटस्थ बनाने वाले प्रावधानों पर भी असहमति है।

साथ ही 'रेप' (बलात्कार) शब्द के इस्तेमाल को लेकर भी विवाद है। केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम जहां विधेयक में 'रेप' के स्थान पर 'सेक्सुअल असल्ट' (यौन उत्पीड़ना) शब्द का इस्तेमाल चाहते हैं, वहीं महिला कार्यकर्ताओं ने इस पर आपत्ति जताते हुए 'रेप' शब्द के इस्तेमाल पर ही जोर दिया है, ताकि इस कानून को विशेष रूप से महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने के संदर्भ में देखा जा सके।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ भी किशोरों की उम्र 18 साल से घटाकर 16 साल करने के पक्ष में नहीं हैं।

विधेयक संसद से पारित करवाए जाने के संबंध में तीरथ ने कहा, "हम निर्धारित समय के भीतर विधेयक पारित कर देंगे। कुछ मतभेद हैं, जिनका जल्द ही समाधान ढूंढ़ लिया जाएगा।"

केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार ने कहा, "हम 22 मार्च तक संसद के दोनों सदनों में इस पर चर्चा करेंगे। केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंगलवार को हुई बैठक में सभी पक्षों ने खुलकर अपनी बात रखी। प्रधानमंत्री ने मंत्री समूह गठित किया। इसकी बैठक बुधवार या गुरुवार को होगी। मुझे भरोसा है कि हमारे बीच इस पर शुक्रवार या सोमवार तक सहमति बन जाएगी और इसे सदन में रखा जाएगा।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

एक्शन दृश्य में मजा आता है : गुरमीत

Thursday, 14 March 2013 18:31

मुम्बई, 12 मार्च (आईएएनएस)| टेलीविजन धारावाहिक 'पुनर्विवाह' के कलाकार गुरमीत चौधरी का कहना है कि उन्हें मारधाड़ के दृश्य करने में मजा आता है। गुरमीत ने हाल ही में इस धारावाहिक के लिए ऐसा ही एक दृश्य शूट किया है। 29 वर्षीय गुरमीत ने शो के सेट पर कहा, "मैंने एक ही टेक में यह दृश्य कर लिया और मुझे अपने पर विश्वास है। छोटे पर्दे पर सब लोग मुझे एक्शन अभिनेता बुलाते हैं।"

उन्होंने कहा, " टेलीविजन शूट में हमारे पास कम समय होता है। मुझमें और भी प्रतिभाएं हैं जो मैंने अभी दिखाई नहीं हैं।"

'पुनर्विवाह' में गुरमीत यश सूरज प्रताप सिंधिया का किरदार कर रहे हैं।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

फांसी से ही हुई राम सिंह की मौत : मेडिकल रिपोर्ट

Thursday, 14 March 2013 18:30

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| दिल्ली सामूहिक दुष्कर्म मामले के कथित सूत्रधार राम सिंह की मौत तिहाड़ जेल में फांसी लगाने से ही हुई। उसके शव का पोस्टमार्टम करने वाली टीम में शमिल एक चिकित्सक ने मंगलवार को इस बात की पुष्टि की।

चिकित्सक ने मीडिया से कहा कि शव के बाहरी हिस्सों पर आघात का कोई निशान नहीं था। उन्होंने आग्रह किया कि चूंकि पत्रकारों से बातचीत के लिए वह अधिकृत नहीं हैं, इसलिए उनका नाम उजागर नहीं किया जाना चाहिए।

राम सिंह का शव उसके परिजनों को सौंपने से पहले अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में तीन चिकित्सकों की एक टीम ने पोस्टमार्टम किया।

एम्स के अनुसार, पोस्टमार्टम की अंतिम रिपोर्ट कुछ दिनों के अंदर पुलिस को सौंप दी जाएगी।

न्यायिक हिरासत में रखे गए राम सिंह ने तिहाड़ जेल में सोमवार सुबह कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी। वह चलती बस में 23 वर्षीया युवती के साथ दुष्कर्म और क्रूरता बरतने के आरोपों का सामना कर रहा था। घटना के समय बस राम सिंह ही चला रहा था। पिछले वर्ष 16 दिसंबर की रात एक नाबालिग सहित छह दरिंदों ने युवती की हालत ऐसी कर दी थी कि दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल और सिंगापुर के एलिजाबेथ अस्पताल में इलाज के बावजूद 13वें दिन उसकी मौत हो गई।

राम सिंह को घटना के अगले दिन 17 दिसंबर को गिरफ्तार किया गया था। उसी दिन देशभर में लोगों ने सड़कों को पर उतरकर शोक और आक्रोश का इजहार किया था जो कई दिनों तक जारी रहा।

न्यायिक हिरासत में राम सिंह की मौत के मामले की जांच मजिस्ट्रेट से कराने के आदेश दिए गए हैं।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

कांस्टेबल तोमर की मौत मामले में आरोपियों को क्लीन चिट

Thursday, 14 March 2013 18:28

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| दिल्ली में पिछले वर्ष दिसंबर में हुए सामूहिक दुष्कर्म के खिलाफ इंडिया गेट पर प्रदर्शन के दौरान कांस्टेबल सुभाष तोमर की मौत के मामले में नामजद आठ लोगों को दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को क्लीन चिट दे दी।

दिल्ली पुलिस की ओर से अतिरिक्त महाधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा ने अदालत को बताया कि आरोपियों का सिपाही की मौत से जुड़े होने का कोई सबूत नहीं मिला है।

लूथरा ने कहा कि लेकिन ये लोग इंडिया गेट के समीप प्रदर्शन के समय सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने में संलिप्त थे।

लूथरा ने कहा, "हमारे पास इलेक्ट्रॉनिक रिकार्ड (फोन लोकेशन रिकार्ड) हैं। ये लोग सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने में संलिप्त थे, लेकिन तोमर की मौत में इनकी कोई भूमिका नहीं थी।"

अदालत सिपाही की मौत मामले के आठों आरोपियों की तरफ से पेश वकील सोमनाथ भारती द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिका में आठ लोगों को आरोप से मुक्त करने की अपील की गई थी।

न्यायमूर्ति जी.पी. मित्तल ने इस मामले पर अंतिम दलील के लिए 20 मार्च की तारीख तय की है।

पुलिस ने आरोप लगाया था कि इंडिया गेट पर प्रदर्शन के दौरान तोमर पर हमला हुआ था और भीड़ ने उन्हें कुचल दिया था। दो गवाहों ने हालांकि यह कहा कि भीड़ को खदेड़ते हुए तोमर खुद गिर पड़े थे। उनके साथ किसी ने मारपीट नहीं की थी और न ही उन्हें कुचला गया था।

हत्या के आरोप में गिरफ्तार आठों को निचली अदालत ने 24 दिसंबर को जमानत दे दी थी।

न्यायमूर्ति मित्तल इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग को लेकर वकील गौरव कुमार बंसल द्वारा दायर याचिका पर भी सुनवाई करेंगे।

दिल्ली में चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म की घटना के विरोध में स्वत: स्फूर्त आंदोलन के दौरान इंडिया गेट पर प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करते हुए गिर जाने के दो दिनों बाद राम मनोहर लोहिया अस्पताल में तोमर की मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया था कि तोमर की मौत हृदयाघात से हुई।

याचिकाकर्ता बंसल का कहना है कि पुलिस, गवाह और डॉक्टरों के बयान विरोधाभाषी हैं, इसलिए जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए।

याचिका में कहा गया है कि पुलिस आयुक्त का बयान दो प्रदक्षदर्शियों योगेंद्र और पाउलिने की गवाही और राम मनोहर लोहिया अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक के बयान से मेल नहीं खाता है।

सड़क पर गिरने के बाद बेहोश हुए तोमर को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां दो दिन बाद उनकी मौत हो गई थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

भारत ने एशिया ग्रां पी में कम्पाउंड स्पर्धा में स्वर्ण जीता

Thursday, 14 March 2013 18:27

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| भारत की पुरुष कम्पाउंड टीम ने बैंकॉक में जारी एशियाई तीरंदाजी ग्रां पी में स्वर्ण हासिल किया है। भारतीय टीम में संदीप कुमार, अभिषेक वर्मा और जिगनास चितिबोम्मा शामिल हैं। भारतीय टीम ने वियतनाम को 226 -218 से हराया। चार सेट तक चले मुकाबले में भारत ने 60, 53,56, 57 अंक हासिल किए जबकि वियतनाम के खिलाड़ी 53, 53, 55 और 57 अंक हासिल कर सके।

क्वार्टर फाइनल में भारत ने सिंगापुर को 234-221 अंकों से हराया था जबकि सेमीफाइनल में उसने इंडोनेशिया को 226-212 के अंतर से पराजित किया।

भारत क्वालीफाईंग राउंड में भी पहले स्थान पर रहा था। भारत ने 2061 अंक हासिल किए थे जबकि वियतनाम ने 2054 और थाईलैंड ने 2045 अंक प्राप्त किए थे।

भारत की रिकर्व टीम ने सेमीफाइनल में मलेशिया को 113-108 से हराया। बुधवार को होने वाले फाइनल मुकाबले में उसका सामना जापान के साथ होगा।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

भारत की तरक्की का दिल से समर्थन : अमेरिका

Thursday, 14 March 2013 18:26

वाशिंगटन, 12 मार्च (आईएएनएस)| अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के एक शीर्ष सहयोगी ने कहा कि अमेरिका न सिर्फ भारत की तरक्की को स्वीकार करता है, बल्कि भारत के नई शक्ति के रूप में उभरने का दिल से समर्थन करता है। ओबामा के इस सहयोगी ने उभरती शक्तियों के साथ घनिष्ठ साझेदारी को एशिया-प्रशांत के लिए अमेरिकी नीति का एक प्रमुख स्तम्भ बताया।

ओबामा के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थॉमस डोनिलॉन ने सोमवार को न्यूयॉर्क में एशिया सोसाइटी में एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए अमेरिकी नीति पर चर्चा करते हुए कहा, "एशिया-प्रशांत क्षेत्र में भारत तथा अमेरिका की रुचियां आपस में तेजी से एक हुई हैं। इस क्षेत्र के लिए भारत बहुत कुछ कर सकता है तथा इस क्षेत्र में भारत के लिए लाभ की बहुत संभावनाएं हैं।"

डोनिलॉन ने याद दिलाया कि उदाहरण के लिए पिछले वर्ष भारत-आसियान के बीच व्यापार 37 प्रतिशत बढ़कर 80 खरब डॉलर हो गया था।

डोनिलॉन ने कहा, "दक्षिण पूर्व एशिया की शुरुआत पूर्वोत्तर भारत से होती है और हम म्यांमार में सुधार के कार्यो का समर्थन करने से लेकर पूर्व के साथ अच्छे संबंध स्थापित करने और जापान के साथ मिलकर तृपक्षीय सहयोग के जरिए समुद्री सीमा की सुरक्षा को प्रोत्साहित करने की भारत की नीतियों का स्वागत करते हैं।"

एशिया-प्रशांत क्षेत्र के लिए अमेरिकी रणनीति का वर्णन करते हुए डोनिलॉन ने कहा, "विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के साथ अमेरिका के संबंध को ओबामा इक्कीसवीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारी के रूप में देखते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की 2009 में अमेरिका यात्रा तथा 2010 में अमेरिकी राष्ट्रपति की भारत यात्रा के बीच अमेरिका ने हर मौके पर स्पष्ट किया है कि वह भारत की तरक्की को सिर्फ स्वीकार ही नहीं करता, बल्कि दिल से उसका समर्थन करता है।"

डोनिलॉन का कहना है कि अमेरिकी प्रशासन, एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अपना संतुलन बनाने में लगा है, क्योंकि आने वाली सदी में इस क्षेत्र की तरक्की तथा अमेरिका की सुरक्षा एवं समृद्धि इसी पर निर्भर है। हालांकि संतुलन बनाने का अर्थ, अन्य क्षेत्रों के महत्वपूर्ण साझेदारों से सम्बंध समाप्त करना, चीन पर नकेल कसना, या एशिया पर शर्तें थोपना नहीं है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

भारत-इटली के बीच 'सांठगांठ' का भाजपा का आरोप

Thursday, 14 March 2013 18:26

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने केरल तट से लगे अरब सागर में दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इतालवी मालवाहक जहाज के दो सुरक्षा कर्मियों को वापस भारत न भेजने के इटली के निर्णय को लेकर दोनों देशों के बीच कूटनीतिक स्तर पर 'साठगांठ' के आरोप लगाए हैं। भाजपा नेता बलबीर पुंज ने मंगलवार को कहा, "यह एक सुनियोजित रणनीति थी। ऐसा लगता है कि इस मुद्दे पर भारत तथा इटली के बीच कूटनीतिक सांठगांठ हुई। दो भारतीयों की हत्या करने वाले सजा से बच रहे हैं। हम जानना चाहते हैं कि आखिर किसके दबाव में यह हो रहा है?"

भाजपा के एक अन्य नेता राजीव प्रताप रूड़ी ने इसे इटली सरकार का बेवकूफ बनाने वाला और धोखा देने वाला रवैया करार देते हुए कहा कि केंद्र सरकार को इसका जवाब सख्ती से देना चाहिए।

रूड़ी ने कहा, "यह सर्वोच्च न्यायालय को बेवकूफ बनाने और धोखा देने जैसा है, जिसने मामले में उदारता बरतते हुए इतालवी सुरक्षा कर्मियों को दो बार उनके घर जाने की अनुमति दी।"

उन्होंने कहा कि केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने पहले ही आशंका जताई थी कि हो सकता है, वे (आरोपी) भारत न लौटें। भाजपा नेता ने कहा, "भारत सरकार की भूमिका पर बड़े सवाल खड़ होते हैं।"

ज्ञात हो कि सर्वोच्च न्यायालय ने इतालवी मालवाहक जहाज के आरोपी सुरक्षा कर्मियों -मेस्सिमिलानो लाटोरे तथा सेलवाटोरे जिरोने- को इटली में 24-25 फरवरी को होने वाले आम चुनाव में मतदान के लिए स्वदेश जाने की अनुमति दी थी। न्यायालय ने इससे पहले क्रिसमस पर भी उन्हें अपने देश जाने की अनुमति दी थी, जिसके बाद वे भारत लौट आए थे, लेकिन इस बार इटली ने उन्हें भारत भेजने से मना कर दिया है।

इटली के उक्त दोनों सुरक्षाकर्मियों पर फरवरी 2012 में अरब सागर में भारतीय मछुआरों की नौका को समुद्री लुटेरे समझकर उन पर गोली चलाने का आरोप है, जिसमें दो मछुआरों की मौत हो गई थी। इस मामले में उनके खिलाफ यहां मुकदमा चल रहा है।

इटली का कहना है कि यह घटना अंतर्राष्ट्रीय जल क्षेत्र में हुई थी, इसलिए मुकदमा उनके यहां चलेगा। लेकिन भारत का दावा है कि घटना उसके समुद्र क्षेत्र में घटी थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

राज्यपाल की नियुक्ति को लेकर केंद्र पर बिफरे माणिक

Thursday, 14 March 2013 18:03

अगरतला, 12 मार्च (आईएएनएस)| बिहार के पूर्व राज्यपाल देवानंद कुंवर को त्रिपुरा का नया राज्यपाल नियुक्त किए जाने पर राज्य सरकार ने मंगलवार को केंद्र सरकार के रवैए की तीखी आलोचना की और कहा कि केंद्र को एकतरफा फैसला नहीं लेना चाहिए था।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने कहा, "किसी राज्य में एकपक्षीय निर्णय लेते हुए राज्यपाल की नियुक्ति करना अनुचित है।"

उन्होंने आगे कहा, "केंद्रीय गृह मंत्री ने राज्यपाल की नियुक्ति से पहले राज्य से मशविरा करने की पारंपरिक पद्धति का पालन नहीं किया।"

गौरतलब है कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शिंदे की सिफारिश पर शनिवार को केरल, बिहार, नागालैंड, ओडिशा तथा त्रिपुरा के लिए राज्यपालों की नियुक्ति की थी।

त्रिपुरा के राज्यपाल डी.वाई. पाटील को बिहार भेजा गया और बिहार के राज्यपाल देवानंद कुंवर को त्रिपुरा भेज दिया गया।

माणिक साफ तौर पर नाराज दिखे। उन्होंने कहा, "पिछले सप्ताह जब गृह मंत्री सुशीलकुमार शिंदे ने मुझे बुलाकर इस बात की जानकारी दी कि कुंवर त्रिपुरा के नए राज्यपाल होंगे तो मैंने उनसे ऐसा न करने का अनुरोध किया था।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "लेकिन मेरे विरोध के बावजूद एकपक्षीय फैसला लेकर राज्यपाल की नियुक्ति कर दिए जाने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री ने दिल्ली में मौजूद त्रिपुरा के आयुक्त को राष्ट्रपति भवन बुलाकर नए राज्यपाल की नियुक्ति संबंधी कागजात सौंप दिए।"

उधर, बिहार में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित कई कैबिनेट मंत्री राज्यपाल देवानंद कुंवर के हाथों राज्य के विश्वविद्यालयों में कुलपतियों (वीसी), प्रति-कुलपतियों (प्रो-वीसी) और कालेजों के प्रिंसिपलों की नियुक्ति में 'लेनदेन' का आरोप लगाते हुए सोमवार को धांधली की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग कर चुके हैं।

पिछले दिनों बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इन नियुक्तियों में राज्य सरकार से सलाह नहीं लिए जाने पर नाराजगी प्रकट की थी। कई विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्ति गलत तरीके से किए जाने का मुकदमा पटना उच्च न्यायालय में विचाराधीन है।

त्रिपुरा में मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेतृत्व वाले वाम मोर्चा की सत्ता में वापसी के बाद फिर से मुख्यमंत्री का पद संभाल चुके माणिक सरकार ने बताया कि उन्होंने शिंदे से फिर बात की है और उनसे पूछा है कि जब राज्य को पहले से पदासीन राज्यपाल से कोई दिक्कत नहीं थी, तब अचानक नए राज्यपाल को नियुक्त करने की क्या जरूरत आन पड़ी?

सरकार ने आगे कहा, "केंद्र सरकार पहले परंपरा को निभाते हुए राज्यपाल पद के लिए नामों की सूची राज्य सरकार को भेजती थी। फिर हम सूची में से किसी एक का चुनाव करते थे या कुछ नामों के ेप्रति हम अपना विरोध या आपत्ति प्रकट करते थे। इसके बाद केंद्र सरकार फिर से संशोधित सूची भेजती थी। राज्य सरकार की सलाह से राज्यपाल की नियुक्त होती थी। यही परिपाटी चली आ रही थी, लेकिन इस बार केंद्र सरकार ने इस सामान्य परिपाटी को तोड़ा है।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

सेंसेक्स में 81 अंकों की गिरावट

Thursday, 14 March 2013 17:55

मुम्बई, 12 मार्च (आईएएनएस)| देश के शेयर बाजारों में मंगलवार को गिरावट का रुख रहा। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 81.29 अंकों की गिरावट के साथ 19,564.92 पर और निफ्टी 28.25 अंकों की गिरावट के साथ 5,914.10 पर बंद हुआ। बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 29.60 अंकों की तेजी के साथ 19675.81 पर खुला और 81.29 अंकों यानी 0.41 फीसदी की गिरावट के साथ 19,564.92 पर बंद हुआ। दिन के कारोबार में सेंसेक्स ने 19,697.84 के ऊपरी और 19,505.75 के निचले स्तर को छुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 2.25 अंकों की तेजी के साथ 5,944.60 पर खुला और 28.25 अंकों यानी 0.48 फीसदी की गिरावट के साथ 5,914.10 पर बंद हुआ। दिन के कारोबार में निफ्टी ने 5,952.00 के ऊपरी और 5,893.65 के निचले स्तर को छुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई। मिडकैप सूचकांक 41.19 अंकों की गिरावट के साथ 6,460.31 पर और स्मॉलकैप 33.69 अंकों की गिरावट के साथ 6,317.65 पर बंद हुआ।

बीएसई के कुल 13 में से दो सेक्टरों तेज खपत उपभोक्ता वस्तु (0.49 फीसदी) और वाहन (0.08 फीसदी) में तेजी दर्ज की गई।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

परिवार नियोजन नीति बनाए रखेगा चीन

Thursday, 14 March 2013 18:00

बीजिंग, 12 मार्च (आईएएनएस)| चीन जनसंख्या सूचकांकों की निगरानी के लिए बनाए गए आयोग को स्वास्थ्य मंत्रालय में मिलाने का फैसला करने के बाद भी एक बच्चे की अपनी नीति को नहीं छोड़ेगा। रविवार को यह पता चला कि स्वास्थ्य मंत्रालय और परिवार नियोजन आयोग को मिलाकर एक नई संस्था बना दी जाएगी, जिसका नाम होगा राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार आयोग।

सार्वजनिक क्षेत्र सुधार कार्यालय के उपाध्यक्ष वांग फेंग ने सोमवार को कहा कि भावी आयोग परिवार नियोजन नीति को एक संस्थानिक आधार देकर मजबूत करेगा।

बीजिंग विश्वविद्यालय में जन स्वास्थ्य स्कूल के प्रोफेसर हू योंघुआ ने कहा, "चीन को अब भी परिवार नियोजन नीति को बरकरार रखने की जरूरत है, हालांकि उससे अधिक जरूरी अपनी जनसंख्या के लिए गुणवत्ता पूर्ण जीवन उपलब्ध कराना है।"

आज चीन में शहरों में वे दम्पति ही दो बच्चे पैदा कर सकते हैं, जिनमें से दोनों ही अपने माता-पिता की इकलौती संतान हैं। गांवों में यदि पहली संतान लड़की है, तो दूसरी संतान की इजाजत है।

चीन ने एक बच्चे की नीति 1970 के दशक के आखिरी वर्षो में अपनाई थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इससे जनसंख्या बढ़ने की रफ्तार घटकर लगभग आधी रह गई है। यानी 1980 में हर साल जहां चीन की जनसंख्या 13.5 लाख बढ़ रही थी, वहीं यह अब हर साल 6.30 लाख बढ़ रही है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

मृत मछुआरे की पत्नी ने की न्याय की गुहार

Thursday, 14 March 2013 17:59

तिरुवनंतपुरम, 12 मार्च (आईएएनएस)| केरल तट से लगे अरब सागर में इतालवी सुरक्षा कर्मियों की गोली से मारे गए दो भारतीय मछुआरों में से एक की पत्नी ने न्याय की गुहार लगाते हुए मंगलवार को कहा कि उन्हें वापस देश लाया जाए और उनके खिलाफ यहीं मुकदमा चले। मछुआरे की पत्नी की यह मांग इटली द्वारा अपने आरोपी सुरक्षाकर्मियों को वापस भारत भेजने से इंकार किए जाने के बाद आई है।

मछुआरे गेलस्तीन की पत्नी डोरा ने कहा, "यह कुछ और नहीं, बल्कि उच्च स्तर पर की गई साजिश है। भारत सरकार को इटली के आरोपी सुरक्षा कर्मियों को देश लाना चाहिए और उनके खिलाफ यहां मुकदमा चलाना चाहिए।"

इटली के विदेश मंत्रालय ने सोमवार को यह कहते हुए अपने सुरक्षा कर्मियों को भारत भेजने से इंकार कर दिया कि यह घटना अंतर्राष्ट्रीय जल क्षेत्र में हुई और इसलिए भारत को इसमें कोई अधिकार नहीं है।

सर्वोच्च न्यायालय ने इतालवी मालवाहक जहाज के आरोपी सुरक्षा कर्मियों-मेस्सिमिलानो लाटोरे तथा सेलवाटोरे जिरोने को इटली में 24-25 फरवरी को होने वाले आम चुनाव में मतदान करने के लिए अपने देश जाने की अनुमति दी थी। न्यायालय ने इससे पहले क्रिसमस पर उन्हें अपने देश जाने की अनुमति दी थी, जिसके बाद वे लौट आए थे, लेकिन इस बार इटली ने उन्हें भारत भेजने से मना कर दिया है।

इटली के उक्त दोनों सुरक्षाकर्मियों पर फरवरी 2012 में केरल तट से लगे अरब सागर में भारतीय मछुआरों की नौका को समुद्री लुटेरे समझकर उन पर गोली चलाने का आरोप है, जिसमें दो मछुआरों की मौत हो गई थी। इस मामले में उनके खिलाफ यहां मुकदमा चल रहा है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

उपभोक्ता महंगाई दर 10.91 फीसदी हुई

Thursday, 14 March 2013 17:59

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| देश की उपभोक्ता महंगाई दर फरवरी में बढ़कर 10.91 फीसदी हो गई, जो जनवरी में 10.79 फीसदी थी। सब्जियों, खाद्य तेल और प्रोटीन आधारित भोज्य पदार्थो की कीमतें बढ़ने से यह वृद्धि हुई। मंगलवार को जारी ताजा उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित उपभोक्ता महंगाई दर में यह लगातार पांचवें महीने की वृद्धि है।

नवम्बर में यह 9.90 फीसदी थी, जो दिसम्बर में 10.56 फीसदी हो गई थी।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी आंकड़े के मुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ता महंगाई दर फरवरी में बढ़कर 11.01 फीसदी रही, जो जनवरी में 10.79 फीसदी थी। शहरी क्षेत्रों में ताजा उपभोक्ता महंगाई दर बढ़कर 10.84 फीसदी रही, जो एक महीने पहले 10.73 फीसदी थी।

आलोच्य अवधि में सब्जियां 21.29 फीसदी, अनाज 17.04 फीसदी और तेल एवं वसा 14.56 फीसदी महंगे हुए।

अंडे, मछली और मांस की कीमत 15.72 फीसदी बढ़ी और दलहन की कीमत 12.39 फीसदी बढ़ी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

औद्योगिक उत्पादन 2.4 फीसदी बढ़ा

Thursday, 14 March 2013 17:58

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| देश का औद्योगिक उत्पादन जनवरी में 2.4 फीसदी बढ़ गया। दिसम्बर 2012 में उत्पादन में 0.6 फीसदी गिरावट रही थी। मंगलवार को जारी सरकारी आंकड़े के मुताबिक बिजली उत्पादन आलोच्य अवधि में 6.4 फीसदी बढ़ा और विनिर्माण क्षेत्र में उत्पादन 2.7 फीसदी बढ़ा, जबकि खनन उत्पादन 2.9 फीसदी कम रहा।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) के मुताबिक अप्रैल 2012 से जनवरी 2013 तक की अवधि में औद्योगिक उत्पादन में कुल एक फीसदी तेजी रही।

मौजूदा कारोबारी साल के पहले 10 महीने में बिजली क्षेत्र में 4.7 फीसदी और विनिर्माण क्षेत्र में 0.9 फीसदी तेजी रही, जबकि खनन क्षेत्र में 1.9 फीसदी गिरावट रही।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

शीला दीक्षित ने दिल्ली इम्पोरियम का उद्घाटन किया

Thursday, 14 March 2013 17:57

नई दिल्ली, 12 मार्च (आईएएनएस)| दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने यहां मंगलवार को परिष्कृत दिल्ली इम्पोरियम का उद्घाटन किया। दिल्ली राज्य औद्योगिक और आधारभूत संरचना विकास निगम (डीएसआईआईडीसी) के प्रवक्ता ने कहा कि दीक्षित के साथ उद्योग मंत्री हारुन यूसुफ भी थे। दीक्षित ने इम्पोरियम में कई वस्तुओं में रुचि दिखाई।

राजधानी के मध्य स्थित इस तीन मंजीले इम्पोरियम में कांस्य कलाकृति, चमड़े के सामान, लकड़ी के खिलौने, कृत्रिम आभूषण, कॉरपोरेट उपहार, हस्तकरघा उत्पाद, फुटवियर, संगमरमर के उत्पाद, साड़ियां, शॉल, लकड़ी के हस्तशिल्प, महिलाओं और पुरुषों के परिधान, तस्वीरें और गलीचे उपलब्ध हैं।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN