भारत के अंडर-17 फुटबाल खिलाड़ियों के लिए परिवार ही उनकी प्रेरणा

पांच दिन बाद भारत में शुरू होने वाले अंडर-17 फुटबाल विश्व कप टूर्नामेंट में मिलने वाली चुनौतियों के लिए भारतीय टीम तैयार है। भारत के अधिकांश अंडर-17 खिलाड़ियों के लिए उनके परिवार ही उनकी प्रेरणा का स्रोत हैं और मैच के दौरान स्टेडियम में उनकी मौजूदगी खिलाड़ियों को बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित करेगी।

भारत की अंडर-17 टीम के फुटबाल खिलाड़ियों ने रविवार को ये भावनाएं जाहिर कीं। टीम के कप्तान अमरजीत सिंह ने कहा, "टीम की ओर से मैं कह सकता हूं कि फुटबाल फेडरेशन (एआईएफएफ) ने पहले से ही हमारे परिवार के सदस्यों को दिल्ली लाने की योजना बना ली है और मैच के दौरान वे स्टेडियम में मौजूद रहेंगे।"

अमरजीत ने कहा, "साल 2015 में एएफसी अंडर-16 चैम्पियनशिप के दौरान गोवा में एआईएफएफ ने हमारे माता-पिता को टूर्नामेंट में आमंत्रित किया था और इससे हमारे लिए वो पल और भी यादगार हो गया।"

पूरी टीम को जब इस बात की खबर मिली कि उनके माता-पिता को फीफा अंडर-17 टूर्नामेंट के लिए आमंत्रित करने की प्रक्रिया शुरू की गई है, तो सभी खिलाड़ी बहुत खुश हुए।

बेंगलुरु के रहने वाले संजीव स्टालिन के लिए उनके माता-पिता का पहले मैच के दौरान स्टेडियम में होना दिवाली के त्यौहार से पहले मिलने वाले तोहफे की तरह है।

मणिपुर के मोहम्मद शाहजहां ने भी कहा कि उनके लिए भी यह बहुत बड़ी बात है।

शाहजहां ने कहा कि वह जानते हैं कि मैच के दौरान उनके माता-पिता सबसे अधिक उनका हौसला बढ़ाएंगे और यह उनके लिए सर्वाधिक प्रेरणादायक होगा।

POPULAR ON IBN7.IN