यू-17 विश्व कप में रह गए 80 दिन, आखिरी निरीक्षण के लिए तैयार फीफा

भारत की मेजबानी में पहली बार हो रहे अंडर-17 फुटबाल विश्व कप में अब सिर्फ 80 दिन रह गए हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि अवसंरचना निर्माण से संबंधित तैयारियों में कोई गंभीर काम नहीं बचा है।

फीफा यू-17 विश्व कप की तैयारियों के बारे में ये बातें बताते हुए स्थानीय आयोजन समिति (एलओसी) के टूर्नामेंट निदेशक जेवियर सेप्पी पूरे आत्मविश्वास में नजर आए।

सेप्पी ने बताया कि यू-17 विश्व कप की तैयारियां अपने चरम पर हैं, किसी गंभीर निर्माण का काम नहीं बचा है, तय समय से पहले निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा तथा फुटबाल की विश्व नियामक संस्था फीफा की मुख्य आयोजन समिति के अधिकारी सभी तैयारियों के अंतिम निरीक्षण के लिए भारत आ सकते हैं।

अंडर-17 विश्व कप का आयोजन छह अक्टूबर से शुरू होगा।

सेप्पी ने आईएएनएस को दिए साक्षात्कार में कहा, "फीफा के अधिकारी आखिरी बार टूर्नामेंट की तैयारियों के निरीक्षण के लिए भारत का दौरा कर सलते हैं।"

सेप्पी ने कहा कि ऐसे में हर किसी के लिए बहुत जरूरी है कि सभी कार्य तेजी से और पूरी ऊर्जा के साथ किए जाएं।

टूर्नामेंट की शुरुआत में 80 दिनों से भी कम समय रह गया है और ऐसे में बुनियादी ढांचे के विकास में दिखाई गई तेजी को भी सेप्पी ने सराहा।

सेप्पी ने कहा, "टूर्नामेंट की तैयारियों को लेकर भारत की तुलना और किसी से नहीं हो सकती। हमने जब नवंबर, 2014 में काम की शुरुआत की थी, तो हमें नहीं पता था कि हम यहां तक पहुंच पाएंगे। अब टूर्नामेंट की शुरुआत से पहले हमारी सभी तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं और हमारा ध्यान अब पूरी तरह से निष्पादन और कार्यान्वयन पर है।"

चिली के निवासी सेप्पी के अनुसार, "अब यह तैयारियों का सबसे अहम दौर है, क्योंकि हमने अब तक जो कुछ बेहतरीन किया है, उसे जाया नहीं जाने दिया जा सकता, निर्माण कार्य की जो गति हमने हासिल की है, उसे धीमा नहीं होने दिया जा सकता। हमें अब हमारा सारा ध्यान अवसंरचना निर्माण पूरा कर सौंपने पर है।"

भारत में अब तक के सबसे बड़े फीफा आयोजन यू-17 विश्व कप में हिस्सा लेने वाले 24 में से उत्तर कोरिया को छोड़कर शेष 23 देशों ने आयोजन स्थलों का दौरा कर लिया है।

सेप्पी ने कहा कि सभी टीमें निगरानी के दौरान आयोजन स्थलों की तैयारियों से खुश हैं।

टूर्नामेंट के आयोजन से जुड़ी अन्य चिंताओं के बारे में सेप्पी ने कहा, "अगर आपको आयोजन को लेकर चिंताएं नहीं हैं, तो अब सही मायने में टूर्नामेंट के निदेशक नहीं हैं।"

सेप्पी ने कहा, "निश्चित तौर पर आप हर चीज संपूर्ण चाहेंगे, लेकिन कहा जाता है कि संपूर्णता तरक्की और बेहतरी की दुश्मन होती है। किसी भी चीज में की गई गलती से मिला अनुभव जरूरी होता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम सही रास्ते पर हैं और हम विश्व कप की शुरुआत को काफी करीब से देख सकते हैं।"

चिली में 2015 में हुए अंडर-17 विश्व कप टूर्नामेंट के दौरान आयोजन समिति का हिस्सा रहे सेप्पी को आशा है कि भारत में इस टूर्नामेंट के दौरान सभी स्टेडियम दर्शकों से पूरी तरह से भरे रहेंगे। उनका कहना है कि अब तक टिकटों की बिक्री संतोषजनक रही है।

सेप्पी ने कहा, "हमारी नजर में भारत में अब तक ऐसा कोई खेल आयोजन नहीं हुआ, जिसके शुरू होने से 80 दिन पहले ही इतनी संख्या में टिकट बिक गए हों। आशा है कि टिकटों की यह बिक्री ऐसी ही जारी रहे।"

अंडर-17 विश्व कप के मैचों का आयोजन नई दिल्ली, कोलकाता, गुवाहाटी, मुंबई, कोच्चि, नवी मुंबई और मडगांव में छह से 28 अक्टूबर के बीच होगा। इस टूर्नामेंट का फाइनल मैच कोलकाता के साल्ट लेक स्टेडियम में खेला जाएगा।

POPULAR ON IBN7.IN