सेबी ने NDTV पर लगाया 10 लाख रुपये का जुर्माना

बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने अनिवार्य आयकर प्रकटीकरण में चूक के लिए मीडिया आउटलेट नई दिल्ली टेलीविजन (एनडीटिवी) पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। इसके अलावा सेबी ने कंपनी के सह-संस्थापक प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय, पूर्व सीईओ विक्रमादित्य चंद्रा, पूर्व अनुपालन अधिकारी अनूप सिंह जुनेजा पर शुक्रवार (16 मार्च) को जारी किए एक आदेश में 3-3 लाख रुपये का फाइन लगाया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 2014 में जारी हुए आयकर मांग के नोटिस के बाद जानकारी देने में की गई कथित देरी लिए जुर्माना लगया गया है। 23 पेज के आदेश में सेबी ने यह भी बताया है कि एनडीटीवी एक्जिक्युटिव वाइस चेयरमैन केवीएल नारायण राव के खिलाफ भी आरोप थे, लेकिन पिछले वर्ष उनकी मृत्यु होने के बाद उनके खिलाफ जांच रोक दी गई। सेबी ने कहा कि उसने एनडीटीवी के एक शेयरधारक क्वांटम सिक्यॉरिटीज से प्राप्त शिकायत के आधार पर जांच की है, जिसमें कहा गया है कि कंपनी ने सूचना प्राप्त होने के दो दिनों के भीतर स्टॉक एक्सचेंज को आयकर विभाग के आदेश का खुलासा नहीं किया।

आदेश में कहा गया है कि ये लोग कंपनी के प्रबंधन का गठन करते हैं जो कंपनी के दिन-प्रतिदिन और संपूर्ण परिचालन के लिए जिम्मेदार हैं। आगे कहा गया है कि यह स्वीकार्य तथ्य है कि मांग करने पर आयकर का खुलासा न करने का फैसला एनडीटीवी के प्रबधंन ने होश-ओ-हवास में लिया था। इससे पहले भी एनडीटीवी पर इसी तरह के एक मामले में 2 करोड़ रुपये का जुर्माना लग चुका है। इससे पहले प्रणय रॉय उस वक्त सुर्खियों में आ गए थे जब बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी की उनके साथ ट्विटर पर बहस हो गई थी।

स्वामी ने प्रणय रॉय के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी करने की बात कही थी, जिसके बाद बहस गरमा गई थी। ट्विटर के जरिये स्वामी ने प्रवर्तन निदेशालय से और आईटी विभाग से कहा था कि प्रणय रॉय दक्षिण अफ्रीका भाग सकते हैं, इसलिए उनके खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया जाए। स्वामी ने ट्वीट में लिखा था- ”मैंने ईडी और आईटीडी से प्रधानमंत्री को लिखे एक पत्र में प्रणय रॉय के खिलाफ एक लुक आउट नोटिस जारी करने के लिए कहा है। वह दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन भाग सकते हैं।”