नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के ल‍िए द‍िल्‍ली में सत्‍याग्रह करेगी आम आदमी पार्टी

नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के ल‍िए आम आदमी पार्टी द‍िल्‍ली में बुधवार से सत्‍याग्रह करेगी। आम आदमी पार्टी (आप) ने मेट्रो किराये में वृद्धि के खिलाफ मंगलवार को शहर व्यापी प्रदर्शन करने की घोषणा की और आरोप लगाया कि किराये में वृद्धि का फैसला रेडियो कैब संचालकों को ‘फायदा’ पहुंचाने के लिए किया गया। आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने इस दावे को भी खारिज कर दिया कि किराये में वृद्धि मेट्रो को हो रहे नुकसान को कम करने के लिए की गयी और कहा कि अगर किराये में वृद्धि हुई तो इससे यात्रियों की संख्या पर सीधा असर होगा। उन्होंने कहा कि आप फैसले की वापसी की मांग के लिए ‘सत्याग्रह’ शुरू करेगी और बुधवार से सभी मेट्रो स्टेशनों के बाहर विरोध प्रदर्शन करेगी तथा गुरूवार को केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के कार्यालय निर्माण भवन का घेराव करेगी।

राय ने मीडिया से कहा, ‘किराया बढ़ाने का मोदी सरकार का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है और कटुता के साथ किया गया है। वे (मंत्रालय) कहते हैं कि मेट्रो को नुकसान हो रहा है लेकिन यह सच नहीं है। ऐसा कैसे हुआ कि नुकसान पिछले एक साल से बढ़ने लगें।’ उन्होंने कहा कि किराये में वृद्धि को रोकने की दिल्ली सरकार की भरसक कोशिशों के बावजूद केंद्र प्रस्तावित किराया वृद्धि से पीछे नहीं हटा। आप सरकार की इन कोशिशों में संचालन खर्च बांटने की इच्छा जताना शामिल है। साथ ही राय ने कहा, ‘किराये में वृद्धि नुकसान की भरपाई करने के लिए नहीं की गयी बल्कि यह लगता है कि इसका मुख्य उद्देश्य ओला और उबर (रेडियो कैब संचालक) को लाभ पहुंचाना है। किराये में वृद्धि से दिल्ली की सड़कों पर और यातायात बढ़ेगा और प्रदूषण में वृद्धि होगी।’

राय के अलावा दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने दावा किया कि मेट्रो किराए में की गयी वृद्धि से यात्रियों की संख्या में कमी आएगी और दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन (डीएमआरसी) को नुकसान उठाना होगा। उन्होंने कहा कि मेट्रो किराए में वृद्धि से सड़कों पर भीड़भाड़ बढ़ जाएगी वहीं राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण का स्तर भी बढ़ जाएगा।किराए में वृद्धि पर विधानसभा में एक ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर जैन ने कहा कि डीएमआरसी की शुरूआत सामाजिक उपक्रम के रूप में हुयी थी ताकि दिल्ली की सड़कों पर भीड़भीड़ तथा प्रदूषण को समाप्त किया जा सके। उन्होंने कहा कि यह कोई व्यवसायिक उपक्रम नहीं है। शहरी विकास, पीडब्ल्यूडी, स्वास्थ्य और गृह विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे जैन ने कहा कि छात्र और आफिस जाने वाले लोग सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे।

 

POPULAR ON IBN7.IN