राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग आज, रामनाथ कोविंद और मीरा कुमार के बीच है मुकाबला

 नई दिल्ली: देश के अगले राष्ट्रपति के लिए वोटिंग आज होने जा रहा है. मुकाबला एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार  के बीच है. वोटों की गिनती 20 जुलाई को दिल्ली में होगी, जहां सभी बैलेट बॉक्स लाए जाएंगे. इसी दिन नतीजों का भी ऐलान होगा. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा. आज संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे. इससे पहले बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने समर्थन जुटाने के मकसद से राज्यों के दौरे किए. इस चुनाव में दिलचस्प बात यह है कि बिहार में महागठबंधन में साथ जेडीयू और आरजेडी ने अलग-अलग उम्मीदवारों को वोट करने का फैसला किया है. जेडीयू जहां बिहार के राज्यपाल रहे रामनाथ कोविंद का समर्थन कर रही है वहीं आरजेडी ने मीरा कुमार के समर्थन का फ़ैसला किया है. समाजवादी पार्टी भी इस मामले में बंटी नज़र आ रही है. समाजवादी पार्टी सांसद विपक्ष के साझा उम्मीदवार के समर्थन वाली बैठक में तो मौजूद थे लेकिन कुछ दिन पहले शिवपाल यादव ने साफ कर दिया कि उनका वोट रामनाथ कोविंद को जाएगा. मुलायम भी कोविंद को ही समर्थन कर सकते हैं.

राष्ट्रपति चुनाव में कुल 4896 वोटर हैं, जिसमें 776 सांसद हैं जबकि 4120 विधायक हैं. खास बात यह है कि इस बार मध्यप्रदेश के बीजेपी विधायक नरोत्तम मिश्रा को आयोग्य ठहराए जाने की वजह से अब कुल वोट 4895 ही रह गया है. राष्ट्रपति चुनाव में कुल पड़ने वाले वोटों की संख्या दस लाख 98 हज़ार 903 है. एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को 63 फीसदी वोट मिलने की उम्मीद है. 

कौन हैं रामनाथ कोविंद?
दलित नेता हैं रामनाथ कोविंद
बीजेपी दलित मोर्चा के अध्यक्ष रहे
अखिल भारतीय कोली समाज के भी अध्यक्ष रहे
कानपुर की डेरापुर तहसील से आते हैं
दो बार राज्यसभा के सांसद रहे
बिहार के पूर्व राज्यपाल

कौन हैं मीरा कुमार?
पूर्व उप प्रधानमंत्री जगजीवन राम की बेटी 
भारतीय विदेश सेवा में अफ़सर रहीं 
1985 में पहली बार यूपी के बिजनौर से सांसद
चुनाव में रामविलास पासवान, मायावती को हराया
पांच बार लोकसभा की सांसद रहीं
मनमोहन सरकार में महिला-बाल कल्याण मंत्री 
2009 से 2014 के बीच लोकसभा स्पीकर
लोकसभा स्पीकर बनने वाली पहली महिला 

राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए योग्यता
भारतीय नागरिक हो
उम्र 35 साल से ज़्यादा हो
लोकसभा सदस्य बनने के योग्य
किसी लाभ के पद पर न हो
करीब 50 सांसदों-विधायकों को समर्थन हो

कौन चुनता है राष्ट्रपति?
सांसद, विधायक लेते हैं हिस्सा
अभी 776 सांसद, 4120 विधायक हैं वोटर
मध्य प्रदेश के विधायक नरोत्तम मिश्रा अयोग्य- नहीं कर पाएंगे वोट
ऐसे में इस बार सांसद-विधायक मिलाकर 4,895 वोटर

सांसदों के वोट का मूल्यांकन
कुल सांसद- 776
लोकसभा- 543
राज्यसभा- 233
देश के विधायकों के मूल्य को कुल सांसदों की संख्या से भाग दिया जाता है इससे एक सांसद का वोट मूल्य आता है जो इस समय 708 है
अब एक सांसद के वोट मूल्य को सांसदों की संख्या से गुणा करने पर कुछ सांसदों का वोट मूल्य निकलता है
इस समय सांसदों का वोट मूल्य 5,49,408 है
अब सांसदों और विधायकों का वोट मूल्य जोड़ा जाता है (5,49,495+5,49,408= 10,98,903)
चुनाव जीतने के लिए 5,49,442 वोट चाहिए

कैसे होती है वोटों की गिनती
- सांसदों को वोटिंग के लिए हरा और विधायकों को गुलाबी मतपत्र दिया जाता है
- मतपत्र में सांसद और विधायक राष्ट्रपति को क्रम के अनुसार चुनते हैं
- अगर तीन राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हों
- इसमें सांसद-विधायक तीन पर अपना क्रम डालते हैं... 1, 2, 3
- अब देखा जाता है कि कौन सबसे ज़्यादा पहली पसंद है
- जो पसंद में तीसरे नंबर पर होता है उसे बाहर कर दिया जाता है
- तीसरे नंबर पर रहने वाले के वोट को पहले और दूसरे उम्मीदवारों में बांट दिया जाता है
- जिसे 51 फ़ीसदी मत मिलते हैं उसकी जीत होती है

POPULAR ON IBN7.IN