वाराणसी : व्हाट्स ऐप ग्रुप से अफवाह फैली तो एडमिन पर होगी कड़ी कार्रवाई, दो गिरफ्तार

वाराणसी: झूठी, भ्रामक खबरों और अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए वाराणसी के जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने एक संयुक्त आदेश जारी कर हिदायत दी है कि सोशल मीडिया और व्हाट्स ऐप पर किसी भी अफवाह, गलत तथ्यों से भरी या सामाजिक समरसता के विरुद्ध पोस्ट पाए जाने पर संबंधित व्यक्ति के साथ ही ग्रुप एडमिन पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी. सोशल मीडिया और व्हाट्स ऐप ग्रुप पर नकेल कसने की देश भर में समय-समय पर बात होती रही है. इसके लिए क्या गाइड लाइन हो क्या जिम्मेदारी किस पर तय हो, कैसे इसे कानून के दायरे में लाया जाए,  यह सब चर्चा होती रही है पर कोई ठोस नतीजा सामने नहीं आया है.

वाराणसी में पिछले दिनों कुछ ऐसी घटनाएं हुईं जिसके बाद जिला प्रशासन हरकत में आया और सोशल मीडिया व्हाट्स ऐप ग्रुप पर नकेल कसने के लिए फरमान जारी कर दिया. इस आदेश में ग्रुप एडमिन को जिम्मेदार बनाया गया है. वाराणसी के डीएम योगेश्वर राम मिश्र और एसएसपी नितिन तिवारी ने संयुक्त अनुदेश देते हुए कहा है कि एडमिन वही बने जो उस ग्रुप की जिम्मेदारी उठाने में सक्षम हो और सभी सदस्यों से पूरी तरह परिचित हो. कोई सदस्य गलत बयानी, बिना पुष्टि के समाचार जो अफवाह बन जाए, पोस्ट करता है तो एडमिन तत्काल उसका खंडन करे कि इसका तथ्य सही नहीं है. साथ ही ऐसे सदस्य को फौरन ग्रुप से बाहर करे. अफवाह , भ्रामक तथ्य और सामाजिक समरसता के विरुद्ध पोस्ट होने पर फौरन संबंधित थाने को सूचना दी जाए एडमिन अगर ऐसी पोस्ट पर कार्रवाई नही करता तो उसे भी उस कृत्य में शामिल माना जाएगा और उसके विरुद्ध भी कर्रवाई होगी.  

वाराणसी प्रशासन ने सिर्फ इस आदेश को जारी ही नहीं किया बल्कि बनारस के लोहता इलाके से ऐसी ही भ्रामक बात फैलाने के आरोप में दो युवकों को देर शाम गिरफ्तार भी किया है. वाराणसी प्रशासन अभी इससे और आगे जाकर ऐसे व्हाट्स ऐप पर चलने वाले लोकल मीडिया ग्रुप को भी जवाबदेह बनाने के लिए उनका पंजीकरण की योजना बना रहा है. उसमें एडमिन को को किसी भी तथ्य के लिए जिम्मेदार बनाया जाएगा, जिससे कोई अफवाह न फैल सके.

  • Agency: IANS