चौटाला मामले में सीबीआई की याचिका पर आदेश 9 फरवरी को

नई दिल्ली:  दिल्ली की एक अदालत ने हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में अतिरिक्त गवाहों की एक सूची दाखिल करने की अनुमति की मांग करने वाली सीबीआई की याचिका पर आदेश सुनाने के लिए नौ फरवरी की तिथि सोमवार को तय कर दी है।

विशेष न्यायाधीश संजय गर्ग ने आदेश सुनाने की तिथि नौ फरवरी के लिए तय कर दी। गर्ग सोमवार को ही यह आदेश सुनाने वाले थे।

सीबीआई ने अपने आवेदन में कहा है कि उसे जांच के दौरान कई बैंक स्टेटमेंट और दस्तावेज मिले हैं और इन्हें साबित करने के लिए कुछ गवाहों को बुलाने की जरूरत है।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अदालत से कहा कि चौटाला और उनकी पत्नी के आयकर रिटर्न मूल प्रतियों से साबित करने की जरूरत है, और इसके लिए आयकर विभाग से गवाहों को मूल दस्तावेजों के साथ बुलाना होगा।

चौटाला के वकील ने हालांकि सीबीआई के तर्क को यह कहते हुए विरोध किया कि एजेंसी के पास जांच के प्रारंभ के समय से ही सभी दस्तावेज मौजूद हैं और यह स्पष्ट नहीं है कि अतिरिक्त गवाहों को क्यों बुलाया जा रहा है।

सीबीआई ने चौटाला और उनके दोनों बेटों अजय और अभय के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के दो मामले दर्ज किए हैं। ये मामले हरियाणा कांग्रेस के नेता शमशेर सिंह सुरजेवाला की शिकायत पर दर्ज किए गए हैं।

सीबीआई ने 1993 और 2006 के बीच वैध आय से काफी अधिक कथित रूप से 6.09 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति जमा करने के लिए चौटाला के खिलाफ 26 मार्च, 2010 को एक आरोप-पत्र दाखिल किया था।

सीबीआई ने आरोप लगाया कि इस अवधि के दौरान चौटाला की संपत्ति उनकी 3.22 करोड़ रुपये की आय से 189 प्रतिशत अधिक है।

हरियाणा में 2000 में 3,206 जूनियर शिक्षकों की नियुक्ति से संबंधित एक अन्य मामले में चौटाला को 10 वर्ष कारावास की सजा सुनाई गई है। वह इस समय जेल में हैं।

POPULAR ON IBN7.IN