ट्विटर पर एक शख्स ने मांगी ऐसी मदद कि सुषमा स्वराज को भी आ गया गुस्सा

नई दिल्ली: भारत की विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ट्विटर पर काफी सक्रिय रहती हैं. ट्विटर पर लोगों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए उसका समाधान करने की पूरी कोशिश करती हैं.जब भी लोगों ने मदद का हाथ मांगा सुषमा ने मदद करने के लिए हाथ आगे बढ़ाया. कई बार ऐसा भी हुआ है कि जब लोग सुषमा स्वराज से ऐसी मदद मांगते हैं, जो उनके दायरे से बाहर होती है. इस बार एक शख्स ने ऐसी मदद मांगी कि सुषमा को गुस्सा ही आ गया.

कुछ महीने पहले एक व्यक्ति ने ट्विटर पर अपनी कार से निकलते धुएं का जिक्र करते हुए सुषमा स्वराज से मदद मांगी थी तो सुषमा स्वराज ने कार को गैराज ले जाने की सलाह दी थी. रविवार को एक व्यक्ति ने सुषमा स्वराज से एक ऐसी मदद मांगी है, जो उनके दायरे में नहीं है.


दरअसल, पुणे आईटी में काम करने वाले स्मित राज नाम के एक व्यक्ति ने ट्विटर पर सुषमा स्वराज से मदद मांगते हुए लिखा कि क्या आप भारत में हमारा वनवास खत्म कर सकते हैं? मेरी पत्नी झांसी में एक रेलवे कर्मचारी हैं और मैं पुणे में एक साल से ज्यादा समय से आईटी में काम कर रहा हूं.

 

इस ट्वीट का जवाब देते हुए सुषमा स्वराज ने लिखा अगर आप और आपकी पत्नी मेरे मंत्रालय से होते और ट्विटर पर तबादले की इस तरह विनती की होती तो अब तक मैंने आपको निलंबन का ऑर्डर भेज दिया होता.
फिर भी इस व्यक्ति की मदद करने के लिए सुषमा स्वराज ने रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट करते हुए इस मामले की जानकारी दी.

सुरेश प्रभु ने इस ट्वीट को संज्ञान में लेते हुए सुषमा स्वराज को लिखा, इस मामले को मेरी नज़र में लाने के लिए धन्यवाद,मेरे द्वारा रखी गई नीति के हिसाब से मैं तबादले पर गौर नहीं करता. रेलवे बोर्ड इसके लिए सशक्त है और मैंने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को नियम के हिसाब से सही कदम उठाने के लिए बोला है.

 

  • Agency: IANS