सहारा के कागजातों में बड़ी गड़बड़

सहारा इंडिया ने रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी (RoC) में अपने खर्च के लिए जितनी रकम बताई हुई थी आय कर निपटान आयोग (ITSC) में उसकी 100 गुना रकम लिखवाई हुई है। माना जा रहा है कि इस वजह से ही कंपनी को ITSC की तरफ से कानूनी कार्रवाई और जुर्माने से छूट मिल गई। दरअसल, 2013 और 2014 में इनकम टैक्स विभाग ने सहारा के ठिकानों पर छापे मारे थे। उसमें से उनको कागजातों के अलावा 1,771 करोड़ रुपए भी मिले थे। इंडियन एक्सप्रेस को यह जानकारी RoC के रिकॉर्ड और ITSC के 50 पेज को देखने के बाद मिली है।

टैक्स एक्सपर्ट्स का मानना है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कंपनी के खर्चों की जानकारी अपने विवेक के आधार पर निकालता है लेकिन इस केस में शायद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कंपनी द्वारा बताई गए खर्च को ही मान लिया था। इसके लिए इंडियन एक्सप्रेस ने सहारा इंडिया को मेल करके जानकारी भी मांगी लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब फिलहाल नहीं आया।

इससे पहले गुरुवार को आय कर निपटान आयोग (ITSC) ने सहारा को बड़ी राहत दी थी। आयोग ने अपने फैसले में विवादित डायरी मामले में सहारा इंडिया पर किसी भी तरह की कानूनी कार्रवाई करने और उस पर जुर्माना लगाने से इनकार कर दिया था। आय कर विभाग ने नवंबर 2014 में सहारा इंडिया के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान एक डायरी बरामद की थी जिसमें कुछ नेताओं के नाम थे और उन्हें पैसे देने के बारे में लिखा हुआ था। आयोग ने इस डायरी को सबूत मानने से भी इनकार कर दिया।

आयोग ने अपना फैसला 50 पन्नों में सुनाया जिसके आखिरी पन्ने में लिखा गया है कि छापे के दौरान कंपनी से 137.58 करोड़ रुपये बरामद हुए थे जिस पर अब टैक्स आरोपित किया जाता है। आयोग ने इस टैक्स की राशि अदायगी को भी 12 किश्तों में कर दिया है। फैसले में कहा गया है कि सहारा इंडिया ने आयोग से गुहार लगाई है कि इस वक्त कंपनी कछिन दौर से गुजर रही है इसलिए कर अदायगी को किश्तों में कर दिया जाए।

POPULAR ON IBN7.IN