महिला आईपीएल का फैसला बीसीसीआई के ऊपर : मिताली

भारत को दो बार आईसीसी विश्व कप के फाइनल में पहुंचाने वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने बुधवार को महिलाओं के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आयोजन का समर्थन किया, लेकिन साथ ही कहा कि इस पर फैसला क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को लेना है। इससे पहले, मिताली ने महिला आईपीएल की यह कहते हुए वकालत की थी इससे खिलाड़ियों को फाइनल जैसी स्थिति से निपटने में मदद मिलेगी।

विश्व कप के फाइनल में भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ दबाव की स्थिति में बिखर गई थी। 229 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत एक समय मजबूत स्थिति में दिख रही थी, लेकिन अंत में लगातार गिरते विकेटों के कारण वह पहली बार विश्व विजेता के खिताब से चूक गई।

मिताली से जब यही सवाल टीम के भारत लौटने पर बुधवार को पूछा गया तो उन्होंने कहा, "अगर इस तरह (महिला आईपीएल) का कुछ भारत में होता है, इससे खिलाड़ियों को अनुभव हासिल करने में मदद मिलेगी, लेकिन यह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पर है कि वह इसके आयोजन के बारे में क्या फैसला लेती है।"

मिताली का मानना है कि उनकी टीम का विश्व कप में प्रदर्शन भारत में महिला क्रिकेट के अच्छे दिनों की शुरुआत है।

भारत ने सेमीफाइनल में मौजूदा विजेता आस्ट्रेलिया को मात देते हुए दूसरी बार फाइनल में जगह बनाई थी। इससे पहले भारत ने 2005 में विश्व कप के फाइनल में कदम रखा था। दोनों बार मिताली ही टीम की कप्तान थीं।

मिताली ने कहा, "यह महिला क्रिकेट के अच्छे दिनों की शुरुआत है। इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप के पहले मैच से हमें काफी हौसला मिला था।"

उन्होंने कहा, "मैं गर्व के साथ यह कह सकती हूं कि मैंने टीम का नेतृत्व अच्छे से किया।"

मिताली ने साथ ही कहा, "जैसी टीम होती है वैसा ही कप्तान होता है।"

POPULAR ON IBN7.IN