रणजी ट्रॉफी फाइनल : गुजरात ने मुंबई पर ली 63 रनों की बढ़त

 

इंदौर:  कप्तान पार्थिव पटेल (90) और मनप्रीत जुनेजा (77) की अहम पारियों की मदद से गुजरात ने रणजी ट्रॉफी के फाइनल मैच के दूसरे दिन बुधवार को मुंबई के खिलाफ पहली पारी में 63 रनों की बढ़त हासिल कर ली है। दिन का खेल खत्म होने तक गुजरात ने मुंबई के पहली पारी के स्कोर 228 रनों के जवाब में छह विकेट खोकर 291 रन बना लिए हैं।

चिराग गांधी 17 रन और रुश कलारिया 16 रन बनाकर नाबाद लौटे।

गुजरात ने पहले दिन ही मुंबई की पारी सस्ते में समेट दी थी, हालांकि उसके बाद पहले दिन उसे सिर्फ एक ओवर खेलने का मौका मिला था, जिसमें गुजरात ने बिना विकेट गंवाए दो रन बनाए थे। दूसरे दिन इसी स्कोर से आगे खेलने उतरी गुजरात की शुरुआत खराब रही। 10वें ओवर तक समित गोहेल (4) और प्रियांक पांचाल (6) रन बनाने के लिए संघर्ष करते रहे। इस दौरान गुजरात कुल 10 रन ही बना सका।

अगले ही ओवर में शार्दुल ठाकुर ने गोहेल को पवेलियन भेज मुंबई को पहली सफलता दिला दी। अगले नौ ओवर भी गुजरात के लिए संघर्ष भरे ही रहे। अभिषेक नायर ने 20वें ओवर की दूसरी गेंद पर पांचाल को भी पवेलियन की राह दिखा दी। इस समय गुजरात का स्कोर 37 रन था।

भार्गव मेराई (45) और पार्थिव ने शुरुआती दो झटकों के बाद टीम को संभाल लिया। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 69 रन जोड़े। अर्धशतक की ओर बढ़ रहे मेराई को नायर ने विकेट के पीछे आदित्य तारे के हाथों कैच कराया।

पार्थिव को इसके बाद जुनेजा का साथ मिला। दोनों ने मुंबई के गेंदबाजों का सामना धैर्य के साथ किया और रनगति को भी पटरी पर लेकर आए। इस जोड़ी ने 26.1 ओवरों में 4.58 की औसत से 120 रन जुटाए और गुजरात को मजबूती प्रदान की।

गुजरात जब पहली पारी में मुंबई की बराबरी करने से दो रन दूर था तभी नायर ने पार्थिव की पारी का अंत किया। शतक से दस रन दूर रह गए पार्थिव ने अपनी पारी में 126 गेंदों का सामना किया और 12 चौके लगाए।

पार्थिव के जाने के बाद टीम ने दिन का खेल खत्म होने तक जुनेजा और रुजुल भट्ट (25) के दो अहम विकेट खो दिए। जुनेजा 254 के स्कोर पर शार्दुल को उन्हीं की गेंद पर कैच थमा बैठे। शार्दुल की बाउंसर पर जुनेजा ने पुल मारने का प्रयास किया लेकिन गेंद उनके बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर हवा में गई जिसे ठाकुर ने भागकर आसानी से लपक लिया। जुनेजा ने 95 गेंदों में 11 चौके लगाए।

रुजुल को बलविंदर सिंह संधु ने अपने जाल में फंसाया। संधु की ऊपर पटकी गेंद को भट्ट गली में खेल बैठे, जहां खड़े युवा पृथ्वी शॉ ने अच्छा कैच लपका।

मुंबई के लिए नायर ने अब तक तीन विकेट लिए हैं, जबकि शार्दुल दो और संधु को एक विकेट मिला है।

रिकॉर्ड 41 बार खिताब जीत चुकी मुंबई मौजूदा चैम्पियन भी है, वहीं गुजरात दूसरी बार फाइनल खेल रहा है और उसे अपने पहले खिताब का इंतजार है।

  • Agency: IANS