इंडिगो के खिलाफ देशद्रोह की शिकायत, कंपनी ने यह दी सफाई

 

एयरलाइंस कंपनी इंडिगो के लिए मंगलवार को नई मुश्किल खड़ी हो गई। कंपनी के खिलाफ एक यात्री ने देशद्रोह की शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें कहा गया कि कंपनी ने भारतीय मुद्रा लेने से इन्कार कर दिया। बुधवार को इसी मामले में कंपनी की ओर से सफाई जारी की गई है। कंपनी का कहना है कि वह अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट्स पर ऑन बोर्ड सेल्स में भारतीय मुद्रा नहीं स्वीकार करती है। ऐसा उसने नियमों के तहत किया है। दिल्ली के रहने वाले प्रमोद कुमार जैन ने कंपनी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124 (ए) के तहत शिकायत दी थी। आरोप था कि उन्होंने जब खाना ऑर्डर किया, तो कंपनी के स्टाफ ने भारतीय मुद्रा लेने से इन्कार कर दिया। पीड़ित शख्स ने इसके बाद सरोजिनी नगर पुलिस थाने में इस बाबत शिकायत दी। शिकायतकर्ता के मुताबिक, यह मामला 10 नवंबर का है। वह तब बेंगलुरू से फ्लाइट नंबर 6E95 से दिल्ली जा रहे थे। चूंकि उनकी फ्लाइट के टिकट में खाना शामिल नहीं था, लिहाजा उन्होंने वह अलग से ऑर्डर किया। वह खाने के बदले में भारतीय मुद्रा दे रहे थे, लिहाजा इंडिगो के स्टाफ ने उसे लेने से मना कर दिया। आरोप है कि स्टाफ ने कहा कि उन्हें सिर्फ विदेशी मुद्रा लेने के लिए कहा गया है।

एक टीवी चैनल से हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि इंडिगो के स्टाफ ने नियम की बात कहते हुए भारतीय मुद्रा लेने से मना कर दिया। हालांकि, मानक कहते हैं कि यात्री उस देश की मुद्रा में रकम चुका सकते हैं, जहां से वे चढ़े होते हैं और जहां वे उतरते हैं।

IndiGo, IndiGo Pilot, Passengers,Chennai-Madurai flight, flight 6E-859, Chennai ATC, cockpit, इंडिगो पायलट, विमान, सह-पायलटउधर, इंडिगो का इस मामले पर कहना है कि कंपनी अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट्स के ऑन बोर्ड सेल्स में भारतीय मुद्रा नहीं स्वीकारती है। ऐसा फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (फेमा) के नियम 3 के तहत किया जाता है। यह बात साफ तौर पर हमारे ऑन बोर्ड सेल्स मीन्यू में भी लिखी हुई है।