यामाहा की चेन्नई फैक्टरी में 10 लाख वाहन का उत्पादन

इंडिया यामाहा मोटर ने शुक्रवार को अपनी चेन्नई फैक्टरी से 10 लाखवें वाहन के रूप में सबसे स्टाइलिश स्कूटर फैसिनो को उतारा, इस तरह कंपनी ने इस फैक्टरी से 10 लाख वाहन का उत्पादन किया। यामाहा ने मार्च 2015 में 4.5 लाख वाहन सालाना की शुरुआती क्षमता के साथ चेन्नई में अपना संचालन शुरू किया। दो साल की छोटी सी अवधि में इसकी क्षमता 6 लाख वाहन सालाना तक पहुंच गई है और 2019 तक यह 9 लाख वाहन सालाना तक पहुंच जाएगी। उत्पादन के लगातार बढ़ते इन आंकड़ों का श्रेय भारत में यामाहा के स्कूटरों एवं मोटरसाइकलों की बढ़ती लोकप्रियता को दिया जा सकता है।

वर्ष 2019 तक चेन्नई और सूरजपुर फैक्टरियों सहित प्ल्ड की कुल उत्पादन क्षमता 16 लाख वाहन सालाना के आंकड़े तक पहुंच जाएगी।

इस मौके पर प्ल्ड के उप प्रबन्ध निदेशक रिउजी कावाशिमा ने कहा, "दो साल में 10 लाख वाहन का उत्पादन भारतीय उपभोक्ताओं की बीच हमारे ब्रांड की बढ़ती लोकप्रियता को दर्शाता है। आने वाले समय में भी हम अपनी उत्पादन सुविधाओं के विस्तार के साथ भारतीय दोपहिया उद्योग की जरूरतों को पूरा करने में योगदान देते रहेंगे।"

चेन्नई फैक्टरी में बने 10 लाख उत्पादों में से 8.5 लाख वाहन का निर्माण घरेलू बाजार के लिए किया गया है और शेष 1.5 लाख वाहन निर्यात बाजार के लिए बनाई गई हैं। इस आंकड़े में फैसिनो का योगदान सबसे ज्यादा है जिसके 3.7 लाख वाहन चेन्नई फैक्टरी में बनाए गए। फैक्टरी में अभी स्कूटर एवं मोटरसाइकल उत्पादन का अनुपात 7:3 है। सबसे ज्यादा निर्यात किए जाने वाले मॉडलों में ऐफजैड सीरीज, रे जैड आर और फैसिनो शामिल हैं।

POPULAR ON IBN7.IN